आर्टिकल 370: PAK को उसी के प्लान में मात देने के लिए भारत ने तैयार की रणनीति

कश्मीर के पुलवामा में भारतीय सेना पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत के समर्थन में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सभी 15 सदस्य थे। वैसे जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर इस बार भी पाकिस्तान को तगड़ा झटका लगा है क्योंकि इस बार उसका साथ मुस्लिम देशों ने भी छोड़ दिया है।

आर्टिकल 370: PAK को उसी के प्लान में मात देने के लिए भारत ने तैयार की रणनीति

आर्टिकल 370: PAK को उसी के प्लान में मात देने के लिए भारत ने तैयार की रणनीति

नई दिल्ली: भारत द्वारा आर्टिकल 370 कमजोर करने से पाकिस्तान काफी बौखलाया है। ऐसे में पड़ोसी मुल्क ने संयुक्त राष्ट्र से गुहार लगाने की घोषणा की है। इस मामले को लेकर भारत ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है। हालांकि, दुनिया भर के कई देश भारत के साथ हैं।

यह भी पढ़ें: नया कश्मीर व लद्दाख बनाने का मोदी का वादा

अमेरिका ने तो पाकिस्तान को आतंकवाद से निपटने तक की हिदायत दे दी है। वहीं, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी और 10 अस्थायी सदस्यों से भारत इस मामले को लेकर बात कर रहा है। यह इसलिए किया जा रहा है, ताकि पाकिस्तान को मात दी जा सके।

स्थायी और अस्थायी सदस्यों संग बात कर रहा भारत

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत सभी स्थायी और अस्थायी सदस्यों के साथ बातचीत कर उन्हें ये बता रहा है कि आर्टिकल 370 जम्मू-कश्मीर से हटाने से इसका राज्य और उसकी सकारात्मक अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा। यही नहीं, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को इस बात की जानकारी भी दी जा रही है कि कश्मीर में हो रही आतंकवादी गतिविधियों के पीछे पाकिस्तान का हाथ है।

यह भी पढ़ें: बोले प्रधानमंत्री मोदी, कश्मीरी देशभक्त पाक की साजिशों का दे रहे जवाब

आर्टिकल 370 और 35A को हटाये जाने के बाद से पाकिस्तान लगातार इस बात पर ज़ोर दे रहा है कि वो ये मामला संयुक्त राष्ट्र में उठाएगा। साथ ही, पाकिस्तान ने धम्की भी दी है कि आगे पुलवामा जैसा हमला दोबारा हो सकता है। इसपर भारत ने भी चेतावनी स्वीकारते हुए कहा कि वह पाकिस्तान की चेतावनी से निपटने के लिए तैयार है।

पुलवामा हमले का संयुक्त राष्ट्र में हुआ था विरोध

मालूम हो, कश्मीर के पुलवामा में भारतीय सेना पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत के समर्थन में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सभी 15 सदस्य थे। वैसे जम्मू-कश्मीर मुद्दे पर इस बार भी पाकिस्तान को तगड़ा झटका लगा है क्योंकि इस बार उसका साथ मुस्लिम देशों ने भी छोड़ दिया है। यही नहीं, चीन ने भी इस बार अपनी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, जिससे पाकिस्तान काफी बौखला गया है।

यह भी पढ़ें: कैसा होगा नया जम्मू-कश्मीर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खींचा खाका