Top

मोदी का बंगाल दौराः देगा बड़ा सियासी संदेश, जवाब में ममता करेंगी शक्ति प्रदर्शन

सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता पहुंचेंगे और विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 23 Jan 2021 5:02 AM GMT

मोदी का बंगाल दौराः देगा बड़ा सियासी संदेश, जवाब में ममता करेंगी शक्ति प्रदर्शन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज होने वाला राज्य का दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता पहुंचेंगे और विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर पीएम मोदी कोलकाता में

हालांकि इस दौरान प्रधानमंत्री किसी सियासी कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेंगे मगर उनका पश्चिम बंगाल दौरा सियासी नजरिए से बड़ा संदेश देने वाला साबित हो सकता है। यही कारण है कि टीएमसी सहित सभी सियासी दलों की नजर पीएम मोदी के दौरे पर लगी हुई है।

नेताजी की जयंती को मोदी ने दी अहमियत

बंगाली अस्मिता के प्रतीकों में नेताजी सुभाष चंद्र बोस का प्रमुख स्थान है और उनसे जुड़े कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए ही पीएम मोदी कोलकाता पहुंच रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः Live: असम और बंगाल में आज गरजेंगे पीएम मोदी, यहां जानें पूरा कार्यक्रम

कोरोना संकटकाल में प्रधानमंत्री ने अधिकांश कार्यक्रमों में वर्चुअल ढंग से ही हिस्सा लिया है मगर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रमों को महत्व देते हुए पीएम मोदी ने खुद कोलकाता पहुंचने का फैसला किया है। इससे समझा जा सकता है कि पीएम मोदी इस कार्यक्रम को कितना महत्व दे रहे हैं।

बंगाल में सियासी मुद्दा बनी नेताजी की जयंती

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में नेताजी की 125वीं जयंती भी सियासी मुद्दा बन चुकी है। केंद्र सरकार की ओर से नेताजी की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का एलान किया गया है।

पीएम मोदी शनिवार को पश्चिम बंगाल में कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। वे नेशनल लाइब्रेरी में नेताजी पर इंटरनेशनल सेमिनार को संबोधित करने के बाद विक्टोरिया मेमोरियल में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। मोदी नेताजी के पत्रों पर आधारित किताब का लोकार्पण करने के साथ ही आईएनए के सेनानियों और स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित भी करेंगे।

टीएमसी की ओर से कई कार्यक्रमों का आयोजन

नेताजी की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने की घोषणा पर तृणमूल कांग्रेस ने तंज भी कसा है। पार्टी का कहना है कि विधानसभा चुनावों के कारण भाजपा को नेताजी की याद आई है। पार्टी की ओर से नेताजी की जयंती को देशनायक दिवस के तौर पर मनाने की घोषणा की गई है।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वॉरियर्स से मोदी का संवाद, बोले वैक्सीन का फैसला राजनीतिक नहीं होता

टीएमसी ने नेताजी की जयंती पर कई कार्यक्रमों का आयोजन किया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पार्टी की ओर से आयोजित इन कार्यक्रमों में हिस्सा लेकर बड़ा संदेश देना चाहती हैं।

कोलकाता की सड़कों पर ताकत दिखाएंगी ममता

नेताजी की जयंती पर जहां पीएम मोदी विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे, वहीं ममता कोलकाता की सड़कों पर शक्ति प्रदर्शन करेंगी। तृणमूल कांग्रेस की ओर से नौ किलोमीटर लंबे जुलूस का आयोजन किया गया है जो कोलकाता के प्रमुख इलाकों से होकर गुजरेगा।

CM Mamata Banerjee

इसकी अगुवाई खुद ममता बनर्जी करेंगी। मोदी के कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए ममता बनर्जी को भी आमंत्रण भेजा गया है मगर अभी तक यह साफ नहीं हो सका है कि ममता मोदी के कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगी या नहीं।

सियासी फायदा उठाने की कोशिश

सियासी जानकारों का मानना है कि विधानसभा चुनाव में पूरी ताकत झोंकने वाली भाजपा नेताजी की जयंती पर मोदी के कार्यक्रमों के जरिए सियासी फायदा उठाने की कोशिश करेगी। पीएम मोदी ने भी नेताजी से जुड़े इस कार्यक्रम को अहमियत देते हुए खुद कोलकाता जाने का फैसला काफी समझ बूझ कर लिया है।

जल्द ही चुनावी दौरा भी करेंगे मोदी

हालांकि अभी तक उन्होंने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव के सिलसिले में किसी चुनावी रैली को संबोधित नहीं किया है मगर जल्द ही उनका चुनावी दौरा भी संभावित है। पार्टी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि अभी भाजपा की ओर से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा पश्चिम बंगाल में चुनावी कार्यक्रमों में हिस्सा लेते रहेंगे मगर राज्य में विधानसभा चुनावों की तारीखों के एलान के बाद पीएम मोदी का कार्यक्रम भी तय किया जाएगा।

ये भी पढ़ेंः कौन हैं ‘पीरजादा’, जिनके एक एलान से उड़ गई है बंगाल के बड़े-बड़े नेताओं की नींद

शनिवार को नेताजी से जुड़े कार्यक्रमों में पीएम मोदी और ममता दोनों के हिस्सा लेने के कारण यह देखने वाली बात होगी कि कौन इसका ज्यादा सियासी फायदा उठा पाता है।

अंशुमान तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story