देश में ना तो धर्मनिरपेक्षता है ना ही समाजवाद: प्रकाश सिंह बादल

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर हुई हिंसा के बाद शिरोमणि अकाली दल का बयान आया है। प्रकाश सिंह बादल ने दिल्ली हिंसा को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

हरियाणा: उत्तर-पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर हुई हिंसा के बाद शिरोमणि अकाली दल का बयान आया है। प्रकाश सिंह बादल ने दिल्ली हिंसा को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

प्रकाश सिंह बादल ने कहा, ‘सेकुलरिज्म, सोशलिज्म और लोकतंत्र। लेकिन सोशलिज्म और सेकुलरिज्म नहीं है। वहीं, लोकतंत्र भी सिर्फ दो स्तरों पर मौजूद है। संसदीय और राज्य के चुनाव तक।’

बता दें कि दिल्ली की सांप्रदायिक हिंसा में मृतकों की संख्या शुक्रवार को बढ़कर 42 पहुंच गई। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के दंगा प्रभावित कुछ इलाकों में दुकानें खुलने के साथ ही हालात सामान्य होते दिखे।

उत्तरपूर्वी जिले के प्रभावित इलाकों में सोमवार से करीब 7,000 अर्द्धसैनिक बल तैनात हैं। शांति कायम रखने के लिए दिल्ली पुलिस के सैकड़ों कर्मी ड्यूटी पर हैं। चार दिन पहले शुरू हुई सांप्रदायिक झड़पों में 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं। इस हिंसा से प्रभावित इलाकों में जाफराबाद, मौजपुर, चांदबाग, खुरेजी खास और भजनपुरा शामिल हैं।

विदेश से जुड़े हैं नागरिकता कानून विरोध के तार