बढ़ते कोरोना मरीजों पर प्रमोद तिवारी भड़के, पीएम से मांगा रोडमैप

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने सोमवार को कहा कि सरकार यह न भूले कि गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, यूपी आदि देश के उन्हीं 7 राज्यों में कोरोना संक्रमण का प्रभाव अधिक है जहां ‘‘नमस्ते ट्रंप’’ का कार्यक्रम कराया गया। उन्होंने सवाल किया कि इन 7-8 राज्यों में ‘‘न्याय योजना’’ को क्यों नहीं लागू किया जा रहा है।

लखनऊ। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने कहा है कि देश में कोरोना की इतनी विकराल स्थिति होने के बाद भी केन्द्र सरकार कोई ‘‘रोडमैप’’ नहीं बता रही है कि वह आखिर क्या करने जा रही है। सरकार सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाने का उपदेश तो दे रही है पर वह स्वयं क्या कर रही है ये नहीं बता रही है। तिवारी ने सवाल किया है कि अब देश में अनलाॅक-2 शुरू हो गया है तो क्या केन्द्र सरकार काम करने वाले स्थलों की भीड़ कम करने के लिये ‘‘न्याय योजना’’ के तहत अगले 6 माह तक 7500 रुपये किसान, मजदूर, रोज कमाने- खाने वाले तथा रेड़ी लगाने वाले लोगों को देने की घोषणा करेगी?

SSP पर कार्यवाही: इस IPS ने डीजीपी को लिखा पत्र, की ये मांग

रूस को पछाड़कर भारत ‘‘तीसरे नम्बर’’ पर

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने सोमवार को कहा कि सरकार यह न भूले कि गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, यूपी आदि देश के उन्हीं 7 राज्यों में कोरोना संक्रमण का प्रभाव अधिक है जहां ‘‘नमस्ते ट्रंप’’ का कार्यक्रम कराया गया। उन्होंने सवाल किया कि इन 7-8 राज्यों में ‘‘न्याय योजना’’ को क्यों नहीं लागू किया जा रहा है। तिवारी ने कहा कि आज कोरोना संक्रमण में रूस को पछाड़कर भारत ‘‘तीसरे नम्बर’’ पर आ गया है। अब भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगभग 7.00 लाख से ज्यादा हो गयी हैं।

भारत में मृृतकों का आंकड़ा लगभग 20 हजार

रूस में कुल मृतकों संख्या जहाँ लगभग 10 हजार है वहीं भारत में मृृतकों का आंकड़ा लगभग 20 हजार है। ऐक्टिव केस रूस में जहां लगभग 2 लाख 20 हजार हैं वहीं भारत में लगभग 2 लाख 53 हजार हो गये हैं। रूस में सीरियस संक्रमितों की संख्या जहां 02 हजार 300 है वहीं भारत में लगभग 09 हजार) है। यह तब है जब रूस में लगभग 2 करोड़ 50 लाख लोगों की टेस्टिंग हुई है और भारत में मात्र 97 लाख लोगों की टेस्टिंग हुई। उन्होंने कहा कि अगर हमने 2 करोड़ 50 लाख लोगों की टेस्टिंग की होती तो शायद यह संख्या कई गुना अधिक होती।

विकास दुबे की गिरफ्तारीः इस जिले के नेपाल बार्डर पर तेज हुई तलाश

प्रधानमंत्री से किया अनुरोध

उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से कोरोना से निपटने का रोड़मैप लाने का अनुरोध करते हुए कहा कि जबकि देश में कोरोना संक्रमण की संख्या करीब 7.00 लाख को पार कर गयी है तो अब तो जाग जाइए। उन्होंने कहा कि यह समय से केन्द्र सरकार के न जागने का ही परिणाम है। उन्होंने सवाल किया कि जब नवम्बर, 2019 में चीन के वुहान में कोरोना संक्रमण का जन्म हो चुका था तो जनवरी, 2020 में अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध क्यों नहीं लगाया गया? 21 दिन का लाॅकडाउन लगाने के पहले विरोधी दलों के नेताओं से विचार- विमर्श क्यों नहीं किया गया ? 21 दिन का लाॅकडाउन लगाने के पूर्व मजदूरों, छात्रों, पर्यटकों और श्रद्धालुओं आदि को सुरक्षित अपने घर आने के लिये 07 दिन का समय क्यों नहीं दिया गया ?

केन्द्र सरकार से अनुरोध किया

तिवारी ने केन्द्र सरकार से अनुरोध किया है कि जनता को आत्म निर्भर बनाने के नाम पर उसे ‘‘राम भरोसे’’ न छोंड़ दिया जाय, केन्द्र सरकार भी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये सार्थक पहल करे। उन्होंने कहा कि बदलते मौसम अर्थात बरसात के मौसम में गांव देहात में सर्दी, जुखाम, खांसी और ज्वर होना आम बात है, कहीं प्रत्येक व्यक्ति इसे कोरोना न समझे, इसलिये टेस्टिंग बढ़ाई जाय, क्योंकि अभी जो टेस्टिंग हो रही है वह देश की आबादी 1 अरब 32 करोड़ के हिसाब से 01 प्रतिशत से भी कम है।

रिपोर्ट- मनीष श्रीवास्तव, लखनऊ

छोड़ रहे तीखे बाणः जमीन और संगठन से दूर राहुल की ट्विटर पर जारी है ये जंग

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।