Top

राहुल बोले: किलेबंदी क्यों? किसान नहीं सरकार को हटना होगा, बेहतर है आज हट जाएं

राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आज किसानों की जो समस्या है, जो दिल्ली के चारों ओर हो रहा है, वह बेहद चिंताजनक है। सरकार किलाबंदी क्यों कर रही है क्या यह किसानों से डरते हैं।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 3 Feb 2021 11:18 AM GMT

राहुल बोले: किलेबंदी क्यों? किसान नहीं सरकार को हटना होगा, बेहतर है आज हट जाएं
X
राहुल बोले: किलेबंदी क्यों? किसान नहीं सरकार को हटना होगा, बेहतर है आज हट जाएं
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला। उन्होंने दिल्ली को किले में तब्दील करने पर आपत्ति जताई और कहा कि देश के किसान आतंकवादी नहीं हैं। सरकार की जिम्मेदारी है कि उनकी समस्या का समाधान करे। उन्होंने कहा कि यह किसान पीछे हटने वाले नहीं हैं। सरकार को ही पीछे हटना होगा बेहतर है कि आज ही हट जाए। केंद्र सरकार के सैन्य बजट में वृद्धि नहीं होने पर भी राहुल ने एतराज जताया और कहा कि इससे चीन को गलत संदेश गया है।

केंद्र सरकार पर किसान विरोधी होने का लगाया आरोप

कांग्रेस मुख्यालय में बुधवार को मीडिया से बातचीत के दौरान राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि आज किसानों की जो समस्या है, जो दिल्ली के चारों ओर हो रहा है, वह बेहद चिंताजनक है। सरकार किलाबंदी क्यों कर रही है क्या यह किसानों से डरते हैं। क्या किसान उनके दुश्मन हैं। राहुल ने कहा कि किसान हिंदुस्तान की शक्ति है इसको डराना धमकाना सरकार का काम नहीं है। सरकार का काम समस्या का हल निकालना है और किसानों को खुश रखना है।

यह भी पढ़ें: राहुल ने क्यों गिनाए दुनिया के तानाशाहों के नाम, किस पर है निशाना

congress rahul gandhi (फोटो- ट्विटर)

सरकार किसानों से बात क्यों नहीं कर रही है। जो कुछ भी हो रहा है यह न देश के लिए अच्छा है और न देश की शांति व्यवस्था के लिए। प्रधानमंत्री ने किसानों से कहा कि अब भी उनका ऑफर बरकरार है तो इसका क्या मतलब है। या तो आप कृषि कानून के समर्थक हैं या उसे खारिज करने वाले। आंदोलन कर रहे किसान कानून की वापसी चाहते हैं। मैं किसानों को बहुत अच्छी तरह से जानता हूं वह पीछे नहीं हटेंगे।

सरकार को कानून वापस लेना होगा बेहतर होगा कि आज ही वापस ले लें। अंत में सरकार को ही हटना होगा। इसमें सभी का फायदा है कि सरकार आज पीछे हट जाए।

यह एक प्रतिशत लोगों का बजट

राहुल ने कहा कि मुझे बजट से अपेक्षा थी कि सरकार हिंदुस्तान के 99 प्रतिशत लोगों के लिए इंतजाम करेगी लेकिन यह एक प्रतिशत लोगों का बजट है। एमएसएमई, किसानों, आम उपभोक्ता के जेब से पैसा लेकर पूंजीपतियों की जेब में डाल दिया है। हिंदुस्तान की जनता के हाथ में पैसा डालने की जरूरत है। लोगों की क्रय शक्ति बढ़ानी होगी, अगर स्माल इंडस्ट्री को पैसा दिया जाता, न्याय योजना की तरह काम किया जाए तो अर्थव्यवस्था में सुधार आता लेकिन सरकार अपने पूंजीपति मित्रों को पैसा दे रही है। इससे अर्थव्यवस्था में सुधार नहीं आएगा।

यह भी पढ़ें: समाप्त होगा किसान आंदोलन? स्वामी ने सुझाया गतिरोध खत्म करने का ये फार्मूला

हमारी सेना को पैसा नहीं दे रही सरकार

बजट पर चर्चा करते हुए राहुल ने कहा कि मेरे लिए सबसे जरूरी बात, चीन हमारी जमीन पर आता है और हजारों किमी जमीन ले जाता है। आप चीन को क्या मेैसेज दे रहे हैं कि हम अपना रक्षा बजट नहीं बढ़ाएंगे। जो जवान हमारे लदद्दाख में डटे हैं। एयरफोर्स के पायलट हैं आज उन्हें क्या लग रहा होगा कि हमारी सरकार हमें पैसा नहीं दे रही है। जो उनके हिस्से का पैसा है वह चंद पूंजीपतियों के हाथ में जा रहा है। इस समय सेना का कमिटमेंट 100 प्रतिशत है तो सरकार का कमिटमेंट 110 प्रतिशत होना चाहिए। यह कौन सी देशभक्ति है, कैसा राष्ट्रवाद है कि सर्दी में लद्दाख में हमारी सेना खड़ी है और आप उसे पैसा नहीं दे रहे हो।

rahul gandhi on budget (फोटो- ट्विटर)

किसानों को आज मारा जा रहा

उन्होंने कहा कि आंदोलन कर रहे किसानों की मांग है कि कानून को वापस लिया जाए। इस सरकार ने नोटबंदी की, एग्रीकल्चर में जीएसटी लागू किया। इससे देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान हुआ उसके बाद कोविड आ गया और ज्यादा नुकसान हुआ. तब देश की अर्थव्यवस्था की सबसे अच्छी बात क्या थी कि खेती। कोरोना के समय में देश की अर्थव्यवस्था को चोट लगी तो किसानों ने देश को बचाया। अब आज आप उन्हें मार रहे हो।

वह प्रधानमंत्री से बातचीत करने के इच्छुक नहीं हैं वह कानून वापस लेने की बात कर रहे हैं। हिंदुस्तान का जो सबसे बड़ा सपोर्ट था उसे आप ने तोड़ दिया. एक प्रश्र के जवाब में उन्होंने कहा कि देश में जो खेती करता है क्या वह आतंकवादी है। अगर ऐसा कहेंगे तो देश की 60 प्रतिशत आबादी आतंकवादी है।

यह भी पढ़ें: TMC में भगदड़: दीपक हलदर BJP में शामिल, राजीव बनर्जी को मिली Z श्रेणी की सुरक्षा

गृह मंत्रालय को इन लोगों पर कार्रवाई करनी चाहिए

लालकिलो पर गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा के बारे में पूछे जाने पर राहुल ने कहा कि होम मिनिस्ट्री को समझाना चाहिए कि वह लोग अंदर घुसे कैसे? गृह मंत्रालय को इन लोगों पर कार्रवाई करनी चाहिए। इससे पता चलता है कि सरकार आज स्थितियों को संभालने में सक्षम नहीं है। सरकार की अक्षमता लगातार सामने आ रही है। उन्होंने अर्थ व्यवस्था को बर्बाद कर दिया। सद्भाव नष्ट कर डाला है।

रक्षा क्षेत्र को बर्बाद कर डाला और भारत को खतरनाक स्थिति में डाल दिया है। आज हमारे सामने आक्रामक चीन खड़ा है। हमें यह नहीं पता है कि हमें क्या करना है। सरकार अपनी अच्छी चीजों और अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए कि चीन को कड़ा संदेश दें कि आप हमारे साथ ऐसा नहीं कर सकते। उन्होंने रुककर कहा कि वास्तव में इस देश में कोई नेतृत्व नहीं है। कोई लीडरशिप नहीं बची है।

राहुल ने बताया क्या है सरकार का काम

पत्रकारवार्ता के अंत में राहुल ने कहा कि मेरा प्रधानमंत्री से लगातार अनुरोध है कि अपनी ड्यूटी निभाएं, आप जिस काम के लिए चुने गए हैं वह काम करें। आपका काम देश की संपत्ति को बेचना नहीं है। एमएसएमई को चीन के टक्कर में खड़ा करने का काम है। किसानों की रक्षा करना है। देश की सीमा की चीन से रक्षा करें।

अखिलेश तिवारी

यह भी पढ़ें: टिकैत से मिले संजय राउत: दिया CM ठाकरे का ये संदेश, कहा- हम आपके साथ

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story