राहुल ने ऐसा क्या बोल दिया, महाराष्ट्र सरकार के मंत्री को फोन कर देनी पड़ रही सफाई

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कल बयान दिया था कि महाराष्ट्र में कांग्रेस डिसिजन मेकर की भूमिका में नहीं है। उनका ये बयान सावर्जनिक होने के बाद से इस पर काफी हो हल्ला मचा हुआ है।

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कल बयान दिया था कि महाराष्ट्र में कांग्रेस डिसिजन मेकर की भूमिका में नहीं है। उनका ये बयान सावर्जनिक होने के बाद से इस पर काफी हो हल्ला मचा हुआ है।

नौबत यहां तक आ पहुंची है कि राहुल गांधी को अब इस पर सफाई देनी पड़ रही है। राहुल ने मौके की नजाकत को समझते हुए शिवसेना नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे से फोन पर बातचीत की।

क्या महाराष्ट्र में कोरोना की वजह से गिरने वाली है उद्धव सरकार, यहां जानें

राहुल ने अपनी सफाई में कही ये बात

राहुल ने उनसे कहा कि एमवीए सरकार और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ कांग्रेस पूरी तरह से खड़ी है। इसमें किसी को भी तनिक भी सोचने की जरूरत नहीं है।

दरअसल पूरा मामला कुछ यूं है कि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। कोरोना के बढ़ते ग्राफ को देखते हुए  मंगलवार को राहुल गांधी ने ये बात कही थी कि हम महाराष्ट्र में सरकार को सपोर्ट कर रहे हैं लेकिन फैसला लेने की क्षमता हमारे पास नहीं हैं।

हम पंजाब-छत्तीसगढ़-राजस्थान में फैसला लेने की स्थिति में हैं। उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र को भी केंद्र सरकार की ओर से आर्थिक सहयोग मिलना चाहिए। हम सिर्फ केंद्र सरकार को सुझाव दे सकते हैं, लेकिन सरकार को क्या मानना है वो उनके ऊपर ही है।

आंकड़ों को लेकर कांग्रेस नेताओं ने किया सीएम योगी पर जबरदस्त हमला

महाराष्ट्र कांग्रेस ने तुरंत दिया था बयान

राहुल गांधी के बयान के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और उद्धव सरकार में मंत्री बालासाहेब थोराट का बयान या था जिसमें उन्होंने ये बात कही थी कि कि हम सभी नेता मिलते रहते हैं और कम से कम सप्ताह में एक बार मीटिंग जरूर करते हैं। कांग्रेस और महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के अन्य दलों के बीच कोई मतभेद नहीं है। कांग्रेस दुखी नहीं है।

यूपी कांग्रेस अध्यक्ष की रिहाई की मांग को लेकर पार्टी का हल्लाबोल, दिया धरना