×

अठावले बोले: अपमान सहना छोड़कर भाजपा ज्वाइन करें आजाद और सिब्बल

अठावले ने एक न्यूज़ एजेंसी से बातचीत में कहा कि कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर विवाद पैदा हो गया है। पार्टी के कई बड़े नेता पार्टी में बदलाव की मांग कर रहे हैं और राहुल गांधी ने आजाद और सिब्बल पर भाजपा से सांठगांठ करने का आरोप लगाया है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 2 Sep 2020 6:16 AM GMT

अठावले बोले: अपमान सहना छोड़कर भाजपा ज्वाइन करें आजाद और सिब्बल
X
रामदास अठावले बोले कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद जुड़ जाए भाजपा के साथ (file photo)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल को कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने का सुझाव दिया है। उन्होंने कहा कि एनडीए वर्षों तक केंद्र की सत्ता पर कायम रहेगी। अठावले ने कहा कि आजाद और सिब्बल समेत कई कांग्रेसी नेताओं पर भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप लगाया गया है। इसलिए उन्हें ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरह कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें:प्रश्न काल रद्द करने पर टीएमसी सांसद डेरेक का फूटा गुस्सा-बताया लोकतंत्र की हत्या

bjp leader Ramdas Athawale रामदास अठावले (social media)

सिब्बल व आजाद को बनाया जा रहा निशाना

अठावले ने एक न्यूज़ एजेंसी से बातचीत में कहा कि कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर विवाद पैदा हो गया है। पार्टी के कई बड़े नेता पार्टी में बदलाव की मांग कर रहे हैं और राहुल गांधी ने आजाद और सिब्बल पर भाजपा से सांठगांठ करने का आरोप लगाया है।

ऐसे में मेरा सुझाव है कि सिब्बल और आजाद दोनों को कांग्रेस से इस्तीफा दे देना चाहिए। इन दोनों नेताओं ने कांग्रेस को मजबूत बनाने के लिए बरसों तक पार्टी की सेवा की है मगर अब उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। ऐसे में इन नेताओं को पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो जाना चाहिए।

सिंधिया की राह पर चलें दोनों नेता

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आजाद और सिब्बल जैसे वरिष्ठ नेताओं का कांग्रेस में अपमान किया जा रहा है। ऐसे में इन दोनों के पार्टी में बने रहने का कोई तुक नहीं है। उन्हें भी ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर चलते हुए पार्टी छोड़ देनी चाहिए। अठावले ने कहा कि सचिन पायलट ने भी इस दिशा में कदम उठाया था मगर आखिरकार उन्होंने समझौता कर लिया।

उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने पार्टी को स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, राहुल गांधी अब उन पर ही हमले कर रहे हैं। कांग्रेस को मजबूत बनाने वालों पर हमले करना उचित नहीं है।

अभी कई वर्षों तक सत्ता में रहेगी एनडीए

अठावले ने कहा कि भाजपा की अगुवाई में अभी आने वाले कई वर्षों के दौरान केंद्र की सत्ता एनडीए के हाथों में ही रहेगी। उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार पूरी मजबूती से काम कर रही है और अगले लोकसभा चुनाव में भी इसका फायदा जरूर मिलेगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले लोकसभा चुनाव में एनडीए 350 से अधिक सीटें जीतने में कामयाब रहेगा।

आम लोगों की पार्टी बन गई है भाजपा

अठावले ने कहा कि भाजपा अब आम लोगों की पार्टी बन गई है और सभी जातियों, संप्रदायों और धर्मों के लोग भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर रहे हैं। आने वाले चुनाव में भाजपा और मजबूत बनकर उभरेगी और कांग्रेस का पूरी तरह सफाया करने में कामयाब होगी।

कांग्रेस में विवाद और गहराया

गौरतलब है कि कांग्रेस में इन दिनों नेतृत्व और बदलाव की मांग को लेकर घमासान मचा हुआ है। पार्टी के 23 वरिष्ठ नेताओं के इस बाबत पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखे जाने के बाद विवाद और गहरा गया है। पार्टी का एक बड़ा वर्ग इन असंतुष्ट नेताओं पर कड़ी कार्रवाई की मांग को लेकर दबाव बना रहा है। हालांकि पार्टी नेतृत्व इस विवाद को सुलझाने की कोशिश में लगा हुआ है मगर यह विवाद सुलझने की बजाय और उलझता जा रहा है।

congress leader kapil sibal and ghulam nabi azad कांग्रेस वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल (social media)

ये भी पढ़ें:फेसबुक पर लगाम लगाने की तैयारी, दुनिया के कई देशों ने उठाया बड़ा कदम

आजाद और सिब्बल पर कार्रवाई की मांग

वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद का कहना है कि यदि पार्टी में आंतरिक चुनाव नहीं कराए गए तो आने वाले 50 वर्षों में कांग्रेस को विपक्ष में ही बैठना पड़ेगा। पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल भी लगातार नेतृत्व को लेकर सवाल खड़े कर रहे हैं। ऐसे में पार्टी के कई नेताओं की मांग है कि पार्टी के भीतरी मामलों को मीडिया तक ले जाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story