Top

रालोद चली भाजपा की राह, ‘हर बूथ पर बनाएंगे 100 सदस्य’

राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) वर्ष 2022 के विधान सभा चुनाव को देखते हुए पूरे प्रदेश में तीन माह के अन्दर हर बूथ पर कम से कम 100 सदस्य अनिवार्य रूप से बनाएगा। इसके लिए 31 अगस्त को पार्टी पदाधिकारियों की बैठक बुलाई गई है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 29 Aug 2019 3:44 PM GMT

रालोद चली भाजपा की राह, ‘हर बूथ पर बनाएंगे 100 सदस्य’
X
रालोद चली भाजपा की राह, ‘हर बूथ पर बनाएंगे 100 सदस्य’
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) वर्ष 2022 के विधान सभा चुनाव को देखते हुए पूरे प्रदेश में तीन माह के अन्दर हर बूथ पर कम से कम 100 सदस्य अनिवार्य रूप से बनाएगा। इसके लिए 31 अगस्त को पार्टी पदाधिकारियों की बैठक बुलाई गई है।

पढ़ें...

आकाशीय बिजली से मौत पर दस-दस लाख का मुआवजा दे योगी सरकार : रालोद

बजट में किसानों, नौजवानों और मजदूरों के लिए कुछ नहीं: रालोद

2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू:

रालोद के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मसूद अहमद ने गुरुवार को कहा कि वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं।

राष्ट्रीय लोकदल अब पूरे प्रदेश में तीन माह के अन्दर हर बूथ पर कम से कम 100 सदस्य अनिवार्य रूप से बनाएगा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय लोकदल खेत, खलिहान और किसान के साथ-साथ युवा वर्ग की राजनीति करता है।

इसलिए इस बात पर बल दिया जायेगा कि अधिकांश सदस्य किसान और युवा वर्ग के हों। सदस्यता अभियान को तीन माह में पूर्व विधायक शिवकरन सिंह राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के रूप में सम्पन्न करायेंगे।

रालोद ने यूपी सरकार को लेकर कह दी ये बात

सदस्यता अभियान को मिलेगी गति:

डॉ. मसूद अहमद ने कहा कि 31 अगस्त को राष्ट्रीय लोकदल सभी पदाधिकारियों, जोनल अध्यक्षों, मण्डल अध्यक्षों, जिलाध्यक्षों के साथ प्रकोष्ठों के अध्यक्षों सहित विशेष आमंत्रित सदस्यों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में राष्ट्रीय लोकदल के सदस्यता अभियान को गति देने के लिए पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहेंगे।

उल्लेखनीय है कि मोदी सरकार के केंद्र में दोबारा सत्तासीन होने के बाद भी भारतीय जनता पार्टी ने सदस्यता एक और मुहिम युद्ध स्तर पर छेड़ रखी है।

ये मुहिम है अधिक से अधिक बीजेपी के नए सदस्य बनाने की। पार्टी में सदस्य संख्या 20% प्रतिशत बढ़ाने का लक्ष्य है। लेकिन अधिकांश राज्यों में पार्टी की सदस्यता में 50 फीसदी तक बढ़ोतरी हो चुकी है।

कुछ राज्यों से सदस्यता में 100 फीसदी बढ़ोतरी तक के दावे भी सामने आ रहे हैं।

कल सपा बसपा और रालोद गठबंधन की दो संयुक्त रैलियां

रालोद चली भाजपा की राह:

उसी तर्ज पर रालोद का अनुमान है कि सदस्यता अभियान समाप्त होने पर पार्टी के सदस्यों का आंकड़ा अच्छी तादाद में बढ़ सकती है।

रालोद से नए सदस्यों को जोड़ने के अभियान में मोबाइल, नमो ऐप, व्हाट्सऐप के अलावा पारंपरिक साधनो का सहारा भी लिया जा रहा है।

हर नए सदस्य का वेरीफेकेशन भी हो रहा है ताकि कोई गड़बड़ी न हो।

उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा तेजी देखने को मिल रही है. देश में सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य में बीजेपी के करीब एक करोड़ नए सदस्य बन चुके हैं।

छह जुलाई को शुरू हुआ बीजेपी का ये सदस्यता अभियान 11 अगस्त तक चलेगा. पार्टी ने इस मुहिम को सदस्यता पर्व का नाम दिया है। मुहिम के लिए नारा भी दिया गया है- 'साथ आएं, देश बनाएं।'

सदस्यता अभियान चलाते समय पार्टी नेताओं को हर बूथ पर वृक्षारोपण, स्वच्छ भारत और जल संरक्षण अभियान में हिस्सा लेने को भी कहा गया है।

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story