Top

अखिलेश का पलटवारः बीजेपी के साथ मिल गए लोग, कर दिया बेनकाब

लोकसभा चुनाव से पहले बसपा के साथ हुए गठबंधन में बुआ का सम्मान करने वाले भतीजे के रूप में दिखाई दिए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पहली बार मुखर हुए हैं।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 31 Oct 2020 10:34 AM GMT

अखिलेश का पलटवारः बीजेपी के साथ मिल गए लोग, कर दिया बेनकाब
X
अखिलेश यादव का माया पर पलटवार: बीजेपी के साथ मिल गए हैं लोग, किया पर्दाफाश (Photo by social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर जबरदस्त पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग भाजपा के साथ मिल गए हैं। ऐसे लोगों का पर्दाफाश करना जरूरी हो गया था। इसी परदाफाश के लिए समाजवादी पार्टी ने राज्य सभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थन किया और पर्दे के पीछे की दोस्ती सबके सामने खुलकर आ गई।

ये भी पढ़ें:योगी का बड़ा ऐलान: लव जेहाद रोकने का प्लान तैयार ,सरकार उठाएगी बड़ा कदम

अब मायावती का अपमान भी उनका अपमान माना जाएगा

लोकसभा चुनाव से पहले बसपा के साथ हुए गठबंधन में बुआ का सम्मान करने वाले भतीजे के रूप में दिखाई दिए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पहली बार मुखर हुए हैं। मायावती के सम्मान से कोई समझौता नहीं करने का ऐलान करने वाले अखिलेश यादव ने तब कहा था कि अब मायावती का अपमान भी उनका अपमान माना जाएगा। इसके बाद जब मायावती ने लोकसभा चुनाव के तुरंत बाद गठबंधन तोडऩे का ऐलान कर दिया तब भी अखिलेश यादव ने एक अच्छे भतीजे के रूप में खुद को पेश किया और मायावती के खिलाफ कुछ भी नहीं कहा। लेकिन वही अखिलेश यादव शनिवार को मायावती पर भी हमलावर अंदाज में दिखे।

समाजवादी नेता आचार्य नरेंद्र देव की समाधि पर पुष्पांजलि अपिर्त करने पहुंचे अखिलेश ने मीडिया से कहा कि कुछ लोग हैं जो मायावती के साथ मिल गए हैं। ऐसे लोग परदे के पीछे से खेल कर रहे थे। मीडिया के सवाल पूछने पर उन्होंने कहा कि सवाल यह है कि भारतीय जनता पार्टी कुछ भी किसी से भी गठबंधन कर सकती है। सवाल यह भी है कि जो लोग भाजपा से अंदर से मिले हुए हैं, चुपचाप समर्थन कर रहे हैं उनका परदाफाश हो। इसलिए समाजवादी पार्टी ने निर्दलीय प्रत्याशी का समर्थन किया।

हम सभी चाहते हैं कि प्रदेश खुशहाली के रास्ते पर जाए

गठबंधन की राजनीति में आने के बाद मायावती और बहुजन समाज पार्टी की राजनीति के बारे में पहली बार खुलकर ऐसा बोलने वाले अखिलेश यादव ने अगले सवालों के जवाब देने के बजाय बात टाल दी। जब उनसे पूछा गया कि मायावती तो कह रही हैं कि वह डिंपल यादव के चुनाव लड़ने पर समर्थन देने के लिए तैयार थीं तो उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि हम सभी चाहते हैं कि प्रदेश खुशहाली के रास्ते पर जाए, जहां हम लोग खड़े हैं वहां नदी का किनारा है।

ये भी पढ़ें:योगी सरकार का बड़ा फैसलाः अफसरों की छुट्टियां रद, बताई ये बड़ी वजह

समाजवादियों ने राजधानी लखनऊ में मेट्रो जहां तक बना दी आज भी वहीं तक है

कभी किसी ने मां गंगा की सौगंध लेकर गंगा को साफ स्वच्छ बनाने का ऐलान किया था यही गोमती उदाहरण है कि समाजवादियों ने इसे साफ सुथरी करने का प्रयास किया लेकिन आज उसकी क्या हालत है। समाजवादियों ने राजधानी लखनऊ में मेट्रो जहां तक बना दी आज भी वहीं तक है। प्रदेश में चार लाख करोड़ का निवेश आने की बात तो करनी चाहिए क्योंकि अगर इतना निवेश आ जाएगा तो प्रदेश में खुशहाली आएगी। इसके बावजूद आज तक निवेश नहीं आ सका। लगभग चार साल प्रदेश की भाजपा सरकार के बीतने वाले हैं लेकिन बेरोजगार युवाओं के सपने पूरे नहीं हो सके।

अखिलेश तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story