Top

कांग्रेस के इस बयान पर शिवसेना का बड़ा ऐलान! सियासत में मचा हड़कंप

कांग्रेस सेवादल के विनायक सावरकर पर टिप्पणी करने वाली किताब पर बवाल बढ़ गया है। बीजेपी और सावरकर के परपोते ने इस पर सवाल खड़े किए हैं और हमला बोला है। अब इस बीच शिवेसना सांसद संजय राउत ने कहा कि वीर सावरकर एक महान व्यक्ति थे और एक महान व्यक्ति बने रहेंगे।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 3 Jan 2020 10:17 AM GMT

कांग्रेस के इस बयान पर शिवसेना का बड़ा ऐलान! सियासत में मचा हड़कंप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: कांग्रेस सेवादल के विनायक सावरकर पर टिप्पणी करने वाली किताब पर बवाल बढ़ गया है। बीजेपी और सावरकर के परपोते ने इस पर सवाल खड़े किए हैं और हमला बोला है। अब इस बीच शिवेसना सांसद संजय राउत ने कहा कि वीर सावरकर एक महान व्यक्ति थे और एक महान व्यक्ति बने रहेंगे। एक वर्ग उनके खिलाफ बात करता रहता है जो उनके दिमाग में गंदगी को दिखाता है।

सावरकर पर विवादित टिप्पणी करने वालों को संजय राउत ने करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि जो लोग सावरकर जी के बारे में ऐसा बोल रहे हैं उनके दिमाग की जांच की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि फिर चाहे वो महाराष्ट्र हो या देश का कोई हिस्सा हर कोई सावरकर जी पर गर्व करता है। उन्होंने कहा कि जो लोग इस तरह की बातें करते हैं, उनका दिमाग गंदगी से भरा है।

यह भी पढ़ें...US हमले के बाद ये खतरनाक कदम उठाने जा रहा ईरान! दुनिया में मचा हाहाकार

संजय राउत ने कहा कि शिवसेना का स्टैंड पूरी तरह से साफ है वीर सावरकर महान थे हैं और रहेंगे। उन्होंने कहा कि जो भी किताब छपी है वो मध्य प्रदेश की गंदगी है, ये कभी भी महाराष्ट्र में नहीं आएगी। शिवसेना सांसद ने कहा कि ये गैर-कानूनी है, हमें कोई सावरकर के बारे में न सिखाए तो ठीक है।

यह भी पढ़ें...मायावती को तगड़ा झटका: इन दिग्गज विधायकों ने छोड़ा साथ, यहां देखें लिस्ट…

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के भोपाल में कांग्रेस सेवादल ने विनायक सावरकर को लेकर एक किताब छापी है, जिसमें कुछ ऐसी टिप्पणियां की गई हैं जिनपर सियासी बवाल खड़ा हो गया है। इस किताब में दावा किया गया है कि विनायक सावरकर और नाथूराम गोडसे में समलैंगिक संबंध थे। इसके बाद बवाल मच गया है।

यह भी पढ़ें...राम मंदिर पर बड़ी खबर: सालों बाद होगा ऐसा, बाहर आएंगी राम शिलाएं

शुक्रवार को ही बीजेपी नेता आशीष शेल्लार ने अपील की थी कि उद्धव ठाकरे को इस किताब की निंदा करनी चाहिए और ऐलान करना चाहिए कि महाराष्ट्र में ये किताब नहीं आएगी। बीजेपी नेता के अलावा विनायक सावरकर के परपोते रंजीत सावरकर ने भी इस किताब की निंदा की थी।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story