सोनिया गांधी ने पंजाब कांग्रेस कमेटी को लेकर उठाया ये बड़ा कदम

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पंजाब के सभी पदाधिकारियों, कार्यकारी समिति (पीसीसी) और जिला कांग्रेस समितियों को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है।

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पंजाब के सभी पदाधिकारियों, कार्यकारी समिति (पीसीसी) और जिला कांग्रेस समितियों को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है।

हालांकि पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ अपने पद पर बने रहेंगे। पार्टी अध्यक्ष द्वारा अचानक लिए गए इस फैसले से पंजाब की राजनीति में कयासबाजी तेज हो गई हैं।

हालांकि इस संबंध में पंजाब कांग्रेस पार्टी प्रधान सुनील जाखड़ का कहना है कि यह एक नियमित प्रक्रिया है और विभिन्न कमेटियों में शामिल कई नेताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं को बोर्ड, निगमों में नियुक्त किए जाने से काफी पद खाली हो गए थे।

इसके चलते आलाकमान ने यह फैसला लिया है कि पार्टी को नए सिरे से कमेटियों और कार्यकारी समितियों को नए सिरे से गठित किया जाएगा। इस फैसले से पार्टी के नए नेताओं को जिम्मेदारी मिलेगी।

ये भी पढ़ें…CAA का विरोध: सीएए रद्द करने के लिए सारे कांग्रेसी राज्यों ने उठाया ये कदम

समिति भंग करने का पत्र

कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा ने हाल ही में अमरिंदर सिंह के खिलाफ विद्रोही तेवर अपनाया था और उनके मुख्यमंत्रित्व काल में शासन की गुणवत्ता पर सवाल उठाया था। पंजाब कैबिनेट की हालिया बैठक के दौरान इस मुद्दे पर चर्चा के बाद पंजाब के वरिष्ठ मंत्रियों ने बाजवा की टिप्पणियों की निंदा की थी।

सूत्रों की मानें तो अमरिंदर सिंह ने घोषणा पत्र को लागू करने के मुद्दे पर भी सोनिया गांधी के साथ चर्चा की। बैठक में पंजाब कांग्रेस के प्रमुख सुनील जाखड़ और राज्य की एआईसीसी प्रभारी आशा कुमारी भी मौजूद थीं। हालांकि पंजाब कैबिनेट के संभावित विस्तार की खबरें थीं लेकिन बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा नहीं की गई।

ये भी पढ़ें…फासीवादी हमलों के मुकाबले में कांग्रेस मुसलमान के साथः शाहनवाज आलम