Top

तुगलकाबाद कांड में सपा भी कूदी, अखिलेश ने बीजेपी पर लगाया ये आरोप

सपा अध्यक्ष ने रविवार को कहा कि दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास मंदिर को तोड़े जाने की घटना ने समाज के एक बड़े वर्ग की भावना को ठेस पहुंचाने का काम किया है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 25 Aug 2019 4:10 PM GMT

तुगलकाबाद कांड में सपा भी कूदी, अखिलेश ने बीजेपी पर लगाया ये आरोप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: बसपा सुप्रीमों मायावती के बाद अब समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर को तोड़े जाने पर भाजपा के खिलाफ हमला बोला है।

सपा मुखिया ने कहा है कि इस घटना से भाजपा सरकार का संत-महात्मा विरोधी चेहरा उजागर हुआ है। सपा अध्यक्ष ने रविवार को कहा कि दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास मंदिर को तोड़े जाने की घटना ने समाज के एक बड़े वर्ग की भावना को ठेस पहुंचाने का काम किया है।

ये भी पढ़ें...प्रदूषण से बचने के लिए आईआईटी कानपुर ने उठाया ये बड़ा कदम

16वीं शताब्दी के महान संत रविदास की स्मृति धरोहर के रूप में बने इस मंदिर से उनके अनुयायियों की श्रद्धा जुड़ी थी।

उन्होंने तुगलकाबाद में संत रविदास मंदिर तोड़े जाने से क्षुब्ध अनुयायियों पर पुलिस के बल प्रयोग को अनुचित और निंदनीय करार देते हुये कहा कि उनके साथ अन्याय नहीं हों।

इसके लिए सभी सत्याग्रहियों को तत्काल रिहा किया जाए तथा उन पर दर्ज मुकदमें वापस हों। अखिलेश ने कहा कि सरकार को जनभावना का आदर करना चाहिए।

ये भी पढ़ें...जवान को इंसाफ नहीं! कहा- अब मैं भी बनूँगा पान सिंह तोमर

भारतीय समाज में गुरूओं, संत-महात्माओं का सदैव आदर रहा है: अखिलेश यादव

दलित समाज के श्रद्धा स्थलों के प्रति दुर्भावनापूर्ण व्यवहार नहीं होना चाहिए और संत रविदास तो समाज के सभी वर्गों में सम्मानित हैं। उनके पूजास्थल से खिलवाड़ सभ्य समाज में कैसे हो सकता है।

सपा मुखिया ने कहा कि भारतीय समाज में गुरूओं, संत-महात्माओं का सदैव आदर रहा है। उनके तमाम अनुयायियों के लिए उनका जीवन-दर्शन हमेशा प्रासंगिक और अनुकरणीय रहा है।

उनके विचारों से प्रेरणा लेने वाले भी कम नहीं। संतो-गुरूओं की स्मृति को चिरजीवी रखने तथा उनके माध्यम से समाज को प्रेरणा देने के लिए मंदिरों का निर्माण सदियों से होता रहा है।

ये भी पढ़ें...सपा के साथ गठबंधन पर सुभासपा इस तारीख को लेगी फैसला

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story