Amritpal Singh के 5 साथियों पर लगा NSA, ISI से फंडिंग, बुलेटप्रूफ जैकेट्स और राइफल्स मिले...पंजाब पुलिस ने ये भी बताया

Amritpal Singh Case Update: खालिस्तान समर्थक नेता और वारिस पंजाब दे के प्रमुख अमृतपाल सिंह के फरारी का आज तीसरा दिन है। पंजाब पुलिस शऩिवार से उसकी गिरफ्तारी के लिए सर्च ऑपरेशन चला रही है लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं मिला है।

Amritpal Singh के 5 साथियों पर लगा NSA, ISI से फंडिंग, बुलेटप्रूफ जैकेट्स और राइफल्स मिले...पंजाब पुलिस ने ये भी बताया
खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह (फोटों: सोशल मीडिया)
Follow us on

Amritpal Singh Case Update: खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह के खिलाफ पंजाब पुलिस का सर्च अभियान जारी है। पंजाब के आईजीपी सुखचैन सिंह (Punjab IGP Sukhchain Singh) ने आज प्रेस कांफ्रेंस में कई बड़े खुलासे किए। उन्होंने बताया अमृतपाल सिंह के जिन 5 साथियों को गिरफ्तार किया गया था उन पर NSA लगाया गया है। ये सभी इस वक़्त असम के डिब्रूगढ़ जेल (Dibrugarh Jail) में बंद हैं। वहीं, अमृतपाल के चाचा पर भी NSA के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। उसे भी असम जेल भेजा गया है। पुलिस ने संदेह जाहिर किया है कि अमृतपाल सिंह को पाकिस्तान के ISI का समर्थन प्राप्त है। इस एंगल की जांच की जा रही है।

पंजाब IGP सुखचैन सिंह ने ये भी संदेह जताया कि, 'वारिस पंजाब दे' चीफ अमृतपाल सिंह को पाकिस्तान के आईएसआई का समर्थन प्राप्त है। इस एंगल से भी जांच की जा रही है। अमृतपाल को विदेशी फंडिंग भी हो रहा है। जिसे उसने अपने संगठन को मजबूत करने पर खर्च किया। अमृतपाल के घर से बुलेटप्रूफ जैकेट्स और राइफल्स बरामद भी किए गए हैं। उसके घर के दरवाजे पर AKF लिखा मिला है। इसका मतलब होता है है कि वे 'आनंदपुर खालसा फौज' नाम से जत्थेबंदी बनाने की कोशिश में जुटे थे। बता दें, अभी तक अमृतपाल सिंह के 114 साथी पंजाब पुलिस की गिरफ्त आ चुके हैं।

खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह के खिलाफ पंजाब पुलिस का सर्च अभियान जारी है। पंजाब के आईजीपी सुखचैन सिंह (Punjab IGP Sukhchain Singh) ने आज प्रेस कांफ्रेंस में कई बड़े खुलासे किए। उन्होंने बताया अमृतपाल सिंह के जिन 4 साथियों को गिरफ्तार किया गया था उन पर NSA लगाया गया है। ये सभी इस वक़्त असम के डिब्रूगढ़ जेल (Dibrugarh Jail) में बंद हैं। वहीं, अमृतपाल के चाचा पर भी NSA के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। उसे भी असम जेल भेजा गया है। पुलिस ने संदेह जाहिर किया है कि अमृतपाल सिंह को पाकिस्तान के ISI का समर्थन प्राप्त है। इस एंगल की जांच की जा रही है। 

जानकारी के मुताबिक, पुलिस ने मर्सिडीज कार को कब्जे में ले लिया है। अमृतपाल के चाचा हरजीत सिंह के पास से एक 32 बोर का पिस्तौल और एक लाख रूपये जब्त हुए हैं। रविवार को पुलिस ने जालंधर के मैहतपुर इलाके से वह कार बरामद कर ली, जिसमें बैठकर अमृतपाल आखिरी बार भागा था। इस कार से पुलिस को अमृतपाल का कृपाण, रायफल और गोलियां मिली हैं। पुलिस को खालिस्तानी नेता और उसके करीबियों की लॉस्ट मोबाइल मुवमेंट पंजाब के अंदर ही मिली है। 

वकील का दावा-अमृतपाल गिरफ्तार हो चुका

पंजाब पुलिस ने वारिस पंजाब दे प्रमुख अमृतपाल सिंह को भगोड़ा घोषित कर रखा है। लेकिन उसके वकील ईमान सिंह का कहना है कि पुलिस उसे गिरफ्तार कर चुकी है। 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार शख्स को कोर्ट में पेश करना होता है लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। ऐसे में अमृतपाल को जान का खतरा है। उन्होंने हाईकोर्ट में इसे लेकर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की है। जिस पर उच्च न्यायालय में 21 मार्च को सुनवाई होगी। ईमान सिंह ने कहा कि अमृतपाल के पीछे पुलिस की 150 गाड़ियां लगी थीं, ऐसे में वह कैसे फरार हो सकता है। 

एनआईए भी करेगी उससे पूछताछ 

खालिस्तान समर्थक नेता अमृतपाल सिंह के मामले में केंद्रीय एजेंसियां भी एक्टिव हो गई हैं। अमृतपाल के जिन चार करीबी सहयोगियों को रविवार को असम के डिब्रूगढ़ ले जाया गया, उनसे पंजाब पुलिस के साथ-साथ राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) भी पूछताछ करेगी। जिन चार आरोपियों को कल डिब्रूगढ़ ले जाया गया, वो हैं - सरबजीत सिंह कलसी, भगवंत सिंह, गुरमीत सिंह गिल और बसंत सिंह। सभी को डिब्रूगढ़ केंद्रीय कारा में रखा गया है। गौरतलब है कि अमृतपाल के आईएसआई से लिंक सामने आने के बाद उसे विदेश फंडिंग मिलने का भी शक है। पुलिस के पास इनपुट है कि खालिस्तानी नेता की एक महंगी कार जिस शख्स के नाम पर है उसका भाई ड्रग्स की तस्करी करता है। यही वजह है कि देर-सवेर इस केस में एनआईए की एंट्री तय मानी जा रही है। 

पंजाब में कानून व्यवस्था को लेकर अलर्ट 

अमृतपाल सिंह की गिरफ्तारी के लिए चलाए जा रहे ऑपरेशन को लेकर पंजाब के कुछ हिस्सों में तनाव का माहौल है। ऐसे में वहां पिछले दो दिन से हाई अलर्ट जारी है। चप्प-चप्पे पर पुलिस की टीम तैनात है। केंद्रीय बलों की कंपनियां पूरे राज्य में संवेदनशील जगहों पर फ्लैग मार्च कर रही हैं। राज्य में आज भी रोडवेज की बसें नहीं चलेंगी। इंटरनेट पर पाबंदी सोमवार दोपहर 12 बजे हटने वाली हैं। पंजाब पुलिस ने अब तक की कार्रवाई में कट्टरपंथी सिख संगठन वारिस पंजाब दे के 112 कार्यकर्ताओं को अरेस्ट किया है। इनमें से 78 शनिवार और 34 रविवार को गिरफ्तार किए गए। पुलिस ने इन लोगों के पास से 7 अवैध रायफल, पिस्तौल, 300 से अधिक बुलेट, कुछ फोन और तीन गाड़ियां बरामद की हैं।