KIDS CARE TIPS: पैरेंट्स बन जाए समझदार,बच्चे हो जाएंगे स्मार्टफोन से दूर

स्मार्टफोन रिबूट होने के बाद रिलॉक होना या फोन कॉल के साथ ही टेक्स्ट मैसेज का ब्लॉक कर पाना इसके कुछ खास फीचर्स हैं। बच्चा यदि जरूरत से ज्यादा इंटरनेट का उपयोग करता है तो इस एप्लिकेशन से उसको भी ब्लॉक किया जा सकता है।

जयपुर: बच्चे आजकल स्मार्टफोन की तरह ही  स्मार्ट हो रहे हैं। अगर उनसे स्मार्टफोन को दूर रखना है तो पैरेंट्स को अपने बच्चे के जैसा ही स्मार्ट बनना होगा। हाइटेक होते जमाने में बच्चों को स्मार्टफोन से दूर रखना मुश्किल है।  आज के बच्चे बोलना बाद में सीखते हैं और स्मार्टफोन चलाना पहले। कई रिसर्च में पाया गया है कि पहले की अपेक्षा अब बच्चों की डीजटल समझ तेजी से विकसित होती है। बच्चे स्मार्टफोन, टैबलेट्स या लैपटॉप पर आखिर इतनी देर तक क्या करते रहते हैं, यह बात हर माता-पिता के लिए चिंता का विषय है। इसे सुलझाने के लिए पैरेंट्स को थोड़ा समझदार होना होगा।

पेरेंटल कंट्रोल बोर्ड  एप प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं। इस एप से जान सकते हैं कि बच्चा स्मार्टफोन या आइपैड से किसे कॉल कर रहा है? किससे कितनी देर बात कर रहा है या क्या मैसेज भेज रहा है़।  जिन लोगों से अपने बच्चे को दूर रखना चाहते हैं, उन लोगों के फोन नंबर और ईमेल एड्रेस को भी इस एप के माध्यम से ब्लॉक कर सकती हैं। बच्चे को उन सबसे कॉल करने, मैसेज भेजने और सोशल मीडिया अकाउंट पर जुड़ने की अनुमति नहीं होगी। चाहे बच्चा छोटा हो या किशोर, इस एप्लिकेशन से  उनके लिए कुछ बुनियादी डिजिटल नियम हैं। इसमें साप्ताहिक और मासिक रिपोर्ट शामिल है। इस एप के माध्यम से  यह तय कर सकती हैं कि एक सप्ताह या माह में बच्चा कितने घंटे इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकता है। वह समय सीमा पूरी होते ही इंटरनेट ब्लॉक हो जाएगा।

किड्स जोन इस एप्लिकेशन से बच्चे के स्मार्टफोन के उपयोग करने की टाइम लिमिट सेट कर सकती हैं। यही नहीं, स्मार्टफोन रिबूट होने के बाद रिलॉक होना या फोन कॉल के साथ ही टेक्स्ट मैसेज का ब्लॉक कर पाना इसके कुछ खास फीचर्स हैं। बच्चा यदि जरूरत से ज्यादा इंटरनेट का उपयोग करता है तो इस एप्लिकेशन से उसको भी ब्लॉक किया जा सकता है।

अरे इस कंपनी ने धोनी को दे दिया धोखा, शिकायत करने पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

यू-ट्यूब किड्स कोई बच्चा यदि सेक्स या पॉर्न कंटेंट सर्च भी करता है तो यह एप उसे कुछ भी सर्च करने नहीं देगा व बच्चे को कुछ और सर्च करने को कहेगा। इस एप के माध्यम से बच्चे के इंटरनेट इस्तेमाल करने का टाइम भी आसानी से निर्धारित होगा।

क्यूस्टोडियो कंट्रोल यह दुनिया का सबसे मजबूत और आसान पेरेंटल कंट्रोल हैं। इसमें फ्री वेब फिल्टरिंग और बच्चों के लिए इंटरनेट इस्तेमाल की टाइम लिमिट तय करने की सुविधा है। इसके साथ ही पोर्नोग्राफी, जुआ, अनुचित साइट्स, कॉल, टेक्स्ट मैसेज और किसी विशेष फोन नंबर को इस एप के माध्यम से बच्चे के स्मार्टफोन में ब्लॉक कर सकती हैं।

इस  युग में सिर्फ पेरेंटल कंट्रोल काफी नहीं हैं। अगर  स्मार्टफोन में सेफ ब्राउजिंग फीचर नहीं है, तो इस एप का जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। इस एप की मदद से बच्चा इंटरनेट पर सिर्फ वही सामग्री देख पाएगा, जो उसके उम्र के अनुकूल है। प्ले स्टोर पर इसके अलावा भी कुछ एप हैं, जिनके माध्यम से  बच्चे के इंटरनेट इस्तेमाल पर अपने नियम लागू कर सकती हैं।

ऐसे करें इस्तेमाल-इस तरह की एप्लिकेशन को इस्तेमाल करने के लिए इन्हें स्मार्टफोन में प्लेस्टोर से डाउनलोड करें और जीमेल से अकाउंट में साइन-इन करें। बच्चे का भी एक जीमेल अकाउंट बनाएं। अपने फोन में जेनरेट किया गया कोड बच्चे के फोन में भी डालें। एक बार दोनों फोन जुड़ गए तो  तय कर सकती हैं कि बच्चा कितनी देर स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर सकता है। पेरेंटल कंट्रोल के लिए एप चुनने से पहले उसे एक बार ट्राई करके जरूर देखें ताकि फीचर्स की जानकारी हो जाए।