5 पॉइंट्स में जानिए सोलमेट और लाइफ पार्टनर के बीच का अंतर

सोलमेट वो व्यक्ति है जो आपको न सिर्फ सीख देता है बल्कि सशक्त बनाता है और आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है। वहीं, लाइफ पार्टनर वो शख्स है जो आपका जीवनभर साथ देने का विचार तो रखता है, साथ ही उसको आप पर काफी भरोसा होता है।

यहां 5 पॉइंट्स में जानिए सोलमेट और लाइफ पार्टनर के बीच का अंत

यहां 5 पॉइंट्स में जानिए सोलमेट और लाइफ पार्टनर के बीच का अंत

लखनऊ: अक्सर देखा गया है कि लोग सोलमेट और लाइफ पार्टनर के बीच कंफ्यूज हो जाते हैं। ऐसे में सोलमेट और लाइफ पार्टनर को लेकर उनकी गलतफहमी हमेशा बरकार रहती है। अगर आप भी इसी केटेगरी में हैं तो आज हम आपको सोलमेट और लाइफ पार्टनर के बीच का अंतर बताएंगे। दिल की बात समझने के लिए दोनों जरूरी हैं।

यह भी पढ़ें: Jio ने लांच किए 3 नए ‘All In One’ प्लान्स, जानिए क्या है नया

सोलमेट वो व्यक्ति है जो आपको न सिर्फ सीख देता है बल्कि सशक्त बनाता है और आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है। वहीं, लाइफ पार्टनर वो शख्स है जो आपका जीवनभर साथ देने का विचार तो रखता है, साथ ही उसको आप पर काफी भरोसा होता है। ऐसे आज हम आपको सोलमेट और लाइफ पार्टनर के बीच अंतर बताएंगे।

यह भी पढ़ें: आरे विवाद: SC ने मेट्रो परियोजना पर नहीं लगाई रोक, MMRCL से पूछा ये सवाल

  1. आपके रिश्तेदार, दोस्त, परिवार के सदस्य या प्रेमी-प्रेमिका सोलमेट हो सकते हैं, जबकि आपका लाइफ पार्टनर आपका जिंदगीभर साथ देता है और आपके हर मुश्किल समय में साथ रहता है।
  2. दिल का रिश्ता सोलमेट से काफी मजबूत होता है लेकिन दिल टूटने के साथ ये रिश्ता कई बार टूट जाता है। उधर, जीवनसाथी की बात करें तो वो तब आता है जब आप खुद को स्वीकार करते हैं और प्यार करते हैं।
  3. आपका और सोलमेट का बैकग्राउंड एक हो सकता है लेकिन जीवनसाथी अलग-अलग बैकग्राउंड से हो सकते हैं।
  4. आपकी भावनाओं को सोलमेट ज्यादा समझता है। वहीं, ये जरुरी नहीं कि लाइफ पार्टनर के साथ ऐसा हो।
  5. उतार-चढ़ाव सोलमेट के साथ ज्यादा होते हैं। लाइफ पार्टनर के साथ ऐसा कम होता है।