Top

केजरीवाल के बर्थडे पर ट्रेंड हुआ 'रायते का आगमन', पढ़िए मजेदार TWEETS

दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल मंगलवार को अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं। केजरीवाल के जन्मदिन के अवसर पर सोशल मीडिया पर लोगों ने बड़े ही मजाकिया अंदाज में उन्हें बधाइयां दीं, यही नहीं माइक्रो ब्लॉगिंग साईट ट्विटर पर अरविंद केजरीवाल के जन्मदिन पर रायते का आगमन भी ट्रेंड करने लगा।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 16 Aug 2016 11:16 AM GMT

केजरीवाल के बर्थडे पर ट्रेंड हुआ रायते का आगमन, पढ़िए मजेदार TWEETS
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल मंगलवार को अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं। केजरीवाल के जन्मदिन के अवसर पर सोशल मीडिया पर लोगों ने बड़े ही मजाकिया अंदाज में उन्हें बधाइयां दीं, यही नहीं माइक्रो ब्लॉगिंग साईट ट्विटर पर अरविंद केजरीवाल के जन्मदिन पर रायते का आगमन भी ट्रेंड करने लगा।

कौन हैं अरविंद केजरीवाल ?

-अरविंद केजरीवाल का जन्म 16 अगस्त 1968 को हरियाणा के हिसार जिले के सिवानी में हुआ था।

-उनके माता-पिता गोविंद और गीता केजरीवाल के तीन बच्चे हैं।

-जिनमें अरविंद केजरीवाल सबसे बड़े हैं।

-अरविंद केजरीवाल ने साल 1989 में आईआईटी खड़गपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री ली।

-अरविंद केजरीवाल एक आईआरएस अधिकारी थे, लेकिन उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दे दिया था।

-उनकी पत्नी सुनीता भी एक आईआरएस अधिकारी हैं। उनके दो बच्चे हर्षिता और बेटा पुलकित हैं।

-अरविंद केजरीवाल को रमन मैग्सेसे पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

-टीम अन्ना हजारे का अहम हिस्सा रहे केजरीवाल ने 26 नवंबर 2012 को आम आदमी पार्टी बना कर राजनीति में कदम रखा था।

-साल 2014 के लोकसभा चुनाव में केजरीवाल ने नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव भी लड़ा था, लेकिन वह हार गए।

यह भी पढ़ें ... हर बात पर केजरीवाल का निशाना मोदी, कॉलेज बिल्डिंग को लेकर भी कसा तंज

दोबारा बने दिल्ली के सीएम

-इसके बाद अरविंद केजरीवाल आम आदमी पार्टी के साथ चुनावों में उतरे और दिल्ली में 15 साल से काबिज कांग्रेस को चुनावों में हराकर सत्ता पर कब्जा किया।

-उनकी सरकार 49 दिन ही चली।

-उनकी सरकार ने जनलोकपाल के मुद्दे पर इस्तीफा दे दिया।

-इसके बाद उन्हें इस निर्णय के लिए भी आलोचना का सामना करना पड़ा।

-साल 2015 में दिल्ली की जनता ने उन्हें एक बार फिर शानदार बहुमत दिया।

-दिल्ली की 70 सीटों में से रिकॉर्ड 67 सीटों पर आम आदमी पार्टी और सिर्फ 3 सीटों पर बीजेपी को जीत मिली।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story