Top

सेंसर बोर्ड ने चलाई बांग्ला फिल्म पर कैंची, इन शब्दों को कहा-म्यूट करें

suman

sumanBy suman

Published on 18 July 2017 7:19 AM GMT

सेंसर बोर्ड ने चलाई बांग्ला फिल्म पर कैंची, इन शब्दों को कहा-म्यूट करें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोलकाता: अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन पर बने एक डॉक्यूमेंट्री में 4 शब्दों को म्यूट करने के लिए सेंसर बोर्ड ने कहा है उसके बाद अब बांग्ला थ्रिलर फिल्म ‘मेघनाद वध रहस्य’ में भी दो शब्दों की जगह बीप करने को कहा है। निर्देशक अनीक दत्त ने रामराज्य से दो शब्दों को म्यूट करने पर सहमति जताई। फिल्म को यू-ए प्रमाणपत्र दिया गया है। इसकी रिलीज भी एक सप्ताह आगे हो गयी है।

आगे...

अनीक ने एक एजेंसी से बात करते हुए कहा कि बोर्ड ने 11 जुलाई को कहा था कि वह फिल्म में दो विशेष शब्दों को म्यूट करना चाहता है। तब समझ नहीं आया कि इन दोनों शब्दों में क्या कमी है लेकिन फिल्म की वित्तीय संभावना, निर्माताओं के हित और किसी तरह की अनिश्चितता से बचने के लिए बदलाव किये हैं। उन्होंने कहा, फिल्म अब 14 जुलाई के बजाय 21 जुलाई को रिलीज होगी। यह फिल्म रामायण में रावण के पुत्र मेघनाद के वध पर आधारित 19वीं सदी के कवि एम मधुसूदन दत्ता की प्रसिद्ध काव्य रचना पर आधारित है।

आगे...

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के क्षेत्रीय दफ्तर ने इससे पहले नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन पर आधारित सुमन घोष की डॉक्यूमेंट्री ‘एन आर्ग्यूमेंटेटिव इंडियन’ में उनसे चार शब्दों – ‘काऊ’, ‘गुजरात’, ‘हिंदुत्व’ और ‘हिंदू इंडिया’ को म्यूट करने को कहा था।

suman

suman

Next Story