Top

अब साथ में हाथ उठाने वाली घरेलू बहू की तलाश में राबड़ी देवी

raghvendra

raghvendraBy raghvendra

Published on 28 Oct 2017 7:28 AM GMT

अब साथ में हाथ उठाने वाली घरेलू बहू की तलाश में राबड़ी देवी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुसीबत आयकर-सीबीआई ने कर दी है। सरकार से बेदखल नहीं हुए होते तो इन झंझटों के बावजूद शादी की बात तेजी से बढ़ती। फिलहाल इन झंझटों से निकल घरेलू बहू की तलाश में भी है लालू प्रसाद का परिवार।

पटना। राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद के घर का छठ नामी है। लालू प्रसाद मुख्यमंत्री थे, तब भी गंगा घाट आते थे। जब उनकी पत्नी राबड़ी देवी मुख्यमंत्री बनीं, तो भी गंगा तट पर छठ पूजा करने में कोताही नहीं बरती गई। पुलिस-प्रशासन को भले जितनी मशक्कत करनी पड़ी, लालू परिवार का छठ गंगा तट पर ही हुआ। लेकिन, अब परेशानी बढ़ती जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी छठ करती रही हैं, लेकिन बार-बार बीमार रहने के कारण परेशान हैं।

लालू प्रसाद की भी तबीयत बीच-बीच में धोखा देती है। इसी कारण इस बार राबड़ी देवी छठ नहीं कर रही हैं। छठ रोका नहीं जाता, इसलिए किसी दूसरे से छठ करवाया जाएगा। अब इसी छठ के बहाने लालू परिवार में बहू लाने की बात तेज हो उठी है।

छोटे का बरतुहार ज्यादा, संकट इसी का

लालू प्रसाद बहू लाना चाहते हैं। स्वाभाविक भी है। कई बेटियों को विदा कर चुके हैं और बहू लाना अब वक्त की मांग भी है। बेटे भी बड़े हो गए हैं। बड़े बेटे तेज प्रताप यादव स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं और छोटे बेटे तेजस्वी यादव उप मुख्यमंत्री। दोनों का प्रोफाइल कुछ महीने पहले बहुत बड़ा था। पद जाने से प्रोफाइल घटा है, लेकिन तेजस्वी यादव को लेकर अब भी लड़कियों में क्रेज है। यह क्रेज कई मौकों पर सार्वजनिक रूप से सामने आ चुका है।

ये भी पढ़ें... बिहार में अलग-अलग जिलों में छठ पूजा के दौरान डूबने से 22 की मौत

तेज प्रताप भी मंत्री पद जाने के बाद अपनी अलग प्रतिभा सामने ला रहे हैं। इससे उनका भी फैन फॉलोइंग कुछ बढ़ा है। लालू परिवार एक बार भी इस मुद्दे पर कुछ सार्वजनिक नहीं कर रहा है और न बात करना चाहता है, लेकिन यह तय है कि सीबीआई और आयकर के चक्कर से कुछ राहत मिलते ही शादी की बात बढ़ जाएगी।

शादी में संभव है कि लडक़ी घरेलू खोजी जाए। ऐसी लडक़ी जिसे जल्द से जल्द राबड़ी देवी छठ व्रत सौंप सकें। एक साल साथ में बिना सूप के हाथ उठाकर छठ लेने की प्रक्रिया होती है, इसलिए लालू परिवार अब इस पर गंभीर होने की सोच रहा है। लालू खुद इस मुद्दे पर बहुत कुछ नहीं कहते, लेकिन राबड़ी घरेलू बहू की बात कह चुकी हैं। परिवार से गहरा नाता रखने वालों की मानें तो घरेलू को लेकर छठ से जुड़ी शर्त भी कहीं न कहीं रहेगी क्योंकि लालू परिवार छठ को लेकर बहुत ज्यादा आस्था रखता है।

बहनों के बीच भाभी को लेकर चर्चा खूब

लालू प्रसाद या राबड़ी देवी भले ही तेज प्रताप यादव या तेजस्वी यादव की होने वाली बहू को लेकर कम बोलते हों, लेकिन बहनों में इसकी चर्चा खूब रहती है। मीसा भारती खुद भी जांच में फंसी हैं, वरना सबसे ज्यादा चिंता उन्हीं की दिखती थी। परिवार से जुड़े सूत्रों की मानें तो उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह के परिवार में ब्याही गई बहन भी भाभी लाने के लिए अपनी तरफ से चर्चा कर रही हैं।

उत्तर प्रदेश से घरेलू बहू लाने में छठ की शर्त नहीं फंसे, इसका भी ध्यान रखा जा रहा है। घरेलू सूत्रों की ओर से यह पक्का माना जा रहा है कि बहू बिहार या उत्तर प्रदेश से ही होगी, इससे ज्यादा दूर की लडक़ी लाने को परिवार में कोई सहर्ष तैयार शायद ही हो।

raghvendra

raghvendra

राघवेंद्र प्रसाद मिश्र जो पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के बाद एक छोटे से संस्थान से अपने कॅरियर की शुरुआत की और बाद में रायपुर से प्रकाशित दैनिक हरिभूमि व भाष्कर जैसे अखबारों में काम करने का मौका मिला। राघवेंद्र को रिपोर्टिंग व एडिटिंग का 10 साल का अनुभव है। इस दौरान इनकी कई स्टोरी व लेख छोटे बड़े अखबार व पोर्टलों में छपी, जिसकी काफी चर्चा भी हुई।

Next Story