Top

राजकपूर हो या सद्दाम हुसैन दोनों के लिए खास है 14 दिसंबर, जानिए इस दिन का इतिहास में महत्व

suman

sumanBy suman

Published on 14 Dec 2018 1:25 AM GMT

राजकपूर हो या सद्दाम हुसैन दोनों के लिए खास है 14 दिसंबर, जानिए इस दिन का इतिहास में महत्व
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जयपुर: इतिहास के सफर का हमारा कारवां अब साल के आखिरी महीने का पहला पखवाड़ा पार करने को है। 14 दिसंबर केे ही दिन है जब दक्षिणी ध्रुव पर पहली बार इंसान ने कदम रखा। ध्रुवीय खोज के क्षेत्र में दुनिया के सबसे महान व्यक्तियों में शुमार रोआल्ड एमंडसन ने 1911 में 14 दिसंबर के दिन ही दक्षिणी ध्रुव पर पहली बार कदम रखा था। नार्वे के एमंडसन जून 1910 में अंटार्कटिका के लिए रवाना हुए थे और तकरीबन डेढ़ वर्ष की यात्रा के बाद अपने मकसद में कामयाब हुए। देश दुनिया के इतिहास में 14 दिसंबर की तारीख में दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है।

1924 : हिंदी सिनेमा के पहले शो मैन राजकपूर का जन्म। 1930 के दशक में बॉम्बे टॉकीज में क्लैप ब्वॉय बने राजकपूर ने पृथ्वी थियेटर से अपने अभिनय जीवन की शुरूआत की और अभिनय के अलावा फिल्म निर्माण और निर्देशन में भी खूब नाम कमाया।

1911 : रोआल्ड एमंडसन ने दक्षिणी ध्रुव पर कदम रखा। वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले पहले व्यक्ति बने।

1918 : कर्नाटक के बेल्लूर में जन्मे बी के एस आयंगर को देश का पहला योग गुरू होने का गौरव हासिल है। उन्हें "आधुनिक योग का प्रणेता" माना जाता है। योग को दुनियाभर में प्रचारित करने की उपलब्धियों के कारण उन्हें 2002 में 'पद्मभूषण' और 2014 में 'पद्मविभूषण' से सम्मानित किया गया। 'टाइम' पत्रिका ने 2004 में दुनिया के सबसे प्रभावशाली 100 लोगों की सूची में उनका नाम शामिल किया था।

1972 : अमेरिका द्वारा चंद्रमा पर भेजा गया मानवयुक्त अंतरिक्ष यान अपोलो 17 वापस लौटा और इसी के साथ चंद्रमा के अन्वेषण का अमेरिका का अभियान समाप्त हो गया।

1995 : बोस्निया, सर्बिया और क्रोएशिया ने पेरिस में डेटन समझौते पर हस्ताक्षर किए जिससे पिछले तीन वर्ष से चल रहे संघर्ष का अंत।

2012 : न्यूटाउन, कनेक्टिकट में गोलीबारी की एक घटना में प्राइमरी स्कूल के 20 बच्चों सहित 28 लोगों की मौत। मरने वालों में 20 वर्ष का हमलावर एडम लांजा भी शामिल।

2003 : शानो शौकत के मामले में सारी दुनिया को मात देने वाले इराक के राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को अमेरिकी सेना ने बदहाली के आलम में एक खंदक से पकड़ लिया। तीन साल बाद उन्हें मानवता के खिलाफ अपराध का दोषी ठहराकर फांसी पर लटका दिया गया।

suman

suman

Next Story