Top

लड़कियों का मोबाइल बार-बार गिरने के पीछे है यह सीक्रेट, जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

By

Published on 20 Sep 2016 10:30 AM GMT

लड़कियों का मोबाइल बार-बार गिरने के पीछे है यह सीक्रेट, जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: अक्सर ही सुनने में आता है कि आज उस लड़की का फोन गिर गया, तो कल बैग में रखते वक्त किसी दूसरी लड़की का फोन गिरकर टूट गया। लोग सुन-सुन कर परेशान हो जाते हैं कि लड़कियों के मोबाइल जल्दी खराब होते हैं। जबकि इसके पीछे रीजन कुछ और ही है। वह है कि लड़कियों के हाथों से मोबाइल ज्यादा गिरते हैं और यही वजह है कि उनके फोन जल्दी खराब होते हैं। एक सर्वे के अनुसार, गिरकर खराब हुए मोबाइल फोन में 58 % मामले महिलाओं द्वारा फोन गिराने के मिले हैं।

आगे की स्लाइड में जानिए इससे जुड़ी इंट्रेस्टिंग जानकारी

हाल ही में हुए एक सर्वे में 50 % से ज्यादा लोगों के स्मार्टफोन की स्क्रीन ज्यादातर स्मार्टफोन खरीदने के आठ महीने के अंदर टूट जाती है। लेकिन कई बार टहलते समय, सफर करते समय, सीढ़ियां चढ़ते या उतरते समय या सेल्फी लेते समय भी मोबाइल फोन हाथ से फिसल जाते हैं और गिरकर टूट जाते हैं।

इस सर्वे में बीते एक साल में 4,000 से अधिक स्मार्टफोन के खराब होने के पीछे के कारणों का एनालिसिस किया गया। यह एनालिसिस गैजेट एवं इलेक्ट्रॉनिक्स सुरक्षा कंपनी 'आनसाइटगो' द्वारा किया गया। इस सर्वे के अनुसार फोन ख़राब होने की शुरुआत सेल्फी लेने से शुरू होती है और सेल्फी लेने में लड़कियां लड़कों से कई गुना आगे होती हैं। आनसाईटगो ने यह सर्वे लोगों में मोबाइल फोन के प्रयोग के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए तथा मोबाइल को टूटने से बचाने हेतु किया गया।

आगे की स्लाइड में जानिए क्या कहना है आनसाईटगो के मेन ऑफिसर का

आनसाईटगो के मेन ऑफिसर कुणा महिपाल ने कहा, "अगर लोगों को समझाया जाए कि मोबाइल फोन कौन सी सिचुएशन में टूट सकता है, तो वे उन सिचुएशनमें अधिक सतर्कता बरत सकते हैं।" सर्वे में पाया गया कि मरम्मत के लिए आए सर्वाधिक स्मार्टफोन में स्क्रीन टूटने की समस्या रही मोबाइल फोन की स्क्रीन गिरने से टूटती है। गोरिल्ला ग्लास जैसे अत्याधुनिक तकनीक और टेम्पर्ड ग्लास के उपयोग से स्क्रीन खराब होने का खतरा कम होता है। लेकिन फिर भी इससे पूरी सुरक्षा नहीं मिलती।

सर्वे से मिले कुछ रोचक फैक्ट्स पर गौर करें, तो 36 % भारतीय स्क्रीन के टूटने के बाद उसका यूज करते रहते हैं। 50 % भारतीय तो अपनी ही गलती से मोबाइल खराब करते हैं। इस सर्वे के हिसाब से अगर लड़कियां सेल्फी ध्यान से लिया करें, तो उनके फोन के टूटने और खराब होने की संभावना काफी कम हो जाती है।

Next Story