Top

OTP से सावधान- बैंक अकाउंट हो सकता है खाली, खतरनाक SMS से बचें ऐसे

समय के साथ बहुत से सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने इस प्रोसेस को लेकर चिंताएं जताई है। एक बार फिर एक इथिकल हैकर ने सिर्फ एक हजार रुपये खर्च कर चुपचाप एक पत्रकार के फोन को टैप किया है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 18 March 2021 3:05 AM GMT

OTP से सावधान- बैंक अकाउंट हो सकता है खाली, खतरनाक SMS से बचें ऐसे
X
OTP से सावधान- बैंक अकाउंट हो सकता है खाली, खतरनाक SMS से बचें ऐसे (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: आज-कल हर जगह टू-फैक्टर-ऑथेंटिकेशन और OTP SMS वैरिफिकेशन के जरिए आप अपने अकाउंट को सिक्योर रखते है। OTP का यूज़ बैंक और डिजिटल पेमेंट अकाउंट में लॉग इन, ऑनलाइन ट्रंजैक्शन को मंजूरी देने या बैंक अकाउंट्स के बीच फंड ट्रांसफर करने तक के लिए होता है। ये मान लीजिए OTP मैसेज अधिकांश ऑनलाइन ट्रांजैक्शन की लाइफ लाइन है।

ये भी पढ़ें:तंजानिया के राष्ट्रपति जॉन मागुफुली का 61 साल की उम्र में निधनः रॉयटर्स

लेकिन समय के साथ बहुत से सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने इस प्रोसेस को लेकर चिंताएं जताई है। एक बार फिर एक इथिकल हैकर ने सिर्फ एक हजार रुपये खर्च कर चुपचाप एक पत्रकार के फोन को टैप किया है। वहीं साइबर क्रिमिनल नए-नए तरीके से लोगों को ठगने का हत्कंडे अपना रहे हैं। विदेश में बहुत से ऐसे मामले सामने आये हैं।

ऐसे होती है ओटीपी फ्रॉड

आपको OTP नहीं मिलता है तो आप सोचते हैं कि नेटवर्क समस्या होगी। लेकिन ओटीपी फ्रॉड में साइबर क्रिमिनल आपके मोबाइल के मैसेजों को हैक कर देते हैं। जिसके जरिए आपके मोबाइल मैसेज को किसी और फोन पर डायवर्ट कर दिया जाता है। ये मैसेज यूजर के बजाय हैकर्स के पास पहुंच सकता है। जिसके बाद हैकर्स ट्रांजैक्शन कर लेते हैं और तो और आपको पता भी नहीं चलता। वैसे तो बैंकिंग ट्रांजैक्शन में ये मुश्किल है क्योंकि ऑथेंटिकेशन के बहुत सारे प्रोसेस हैं।

ये भी पढ़ें:आगराः 100 सवारियों को ले जा रही निजी बस पलटी, 14 यात्री घायल, अस्पताल में भर्ती

ऐसे बचे ओटीपी फ्रॉड से

ऐसे फ्रॉड से बचने के लिए कोशिश करें कि आप कम से कम SMS सर्विस यूज करें। वहीं, आप एक फैक्टर की जगह टू-फैक्टर-ऑथेंटिकेशन का यूज करें। इसके साथ आप मेल पर ओटीपी मंगवाने की आदत डाल लें। इन तरीकों से आप ठगी से बच सकते है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story