ELECTION से पहले एक बार फिर पूर्वांचल में ‘मोदी’ चालीसा का जोर

Published by Newstrack Published: January 26, 2016 | 4:40 pm
Modified: January 26, 2016 | 6:28 pm

फाइल फोटो मोदी चालीसा

गोरखपुर. यूपी में होने वाले 2017 विधानसभा चुनावों की हलचल शुरू हो चुकी है। साथ ही शुरू हो गई है अपने प्रिय नेता के प्रचार-प्रसार की कवायद। सोशल मीडिया पर तो समर्थकों ने अपने-अपने प्रिय नेता को बतौर सीएम घोषित करना शुरू भी कर दिया है। लेकिन सबसे दिलचस्प है, पूर्वांचल में प्रधानमंत्री मोदी के लिए लिखी गई ‘नमो चालीसा’ का लौटना।

 पूर्वाचल में वायरल हुआ मोदी चालीसा का नया वर्जन

पूर्वांचल में एक बार फिर इस चालीसा का प्रचार प्रसार देखने को मिल रहा है। लोग इसे व्हाट्सएप के माध्यम से एक दूसरे को भेज पीएम मोदी का गुणगान कर रहे हैं। नमो चालीसा वैसे तो मूलतः गुजराती में लिखी गई थी, लेकिन इसका लेटेस्ट हिंदी वर्जन काफी वायरल हो रहा है। पूर्वांचल में चाय-पान की दुकान पर लोग काफी दिलचस्पी लेकर मोदी चालीसा सुन-सुना रहे हैं। हालांकि कुछ लोग इसे बीजेपी के प्रचार अभियान की शुरुआत भी बता रहे हैं।

 

गुजराती में लिखी हनुमान चालीसा
गुजराती में लिखी हनुमान चालीसा का अंश

पढ़िए क्या लिखा है मोदी चालीसा के नए वर्जन में

मोदी चालीसा

जय नरेन्द्र ग्यान गुन सागर ।

जय मोदी पीएम उजागर ।।

राष्ट्रदूत अतुलित बलधामा ।

दामोदर पुत्र नरेन्दर नामा ।।

तुम उपकार राष्ट्र पर कीन्हा ।

कच्छ संवारि स्वर्ग सम कीन्हा ।।

माया, मुलायम थर थर काँपैं ।

काँग्रेस को चिंता व्यापै ।।

नासहि सपा मिटैं बसपाई ।

खिलै कमल फूलैं भजपाई ।।

साधु संत के तुम रखबारे ।

असुर निकंदन राष्ट्रदुलारे ।।

संत रसायन तुम्हरे पासा ।

सदा रहहु भारत के दासा ।।

भारत विश्वगुरु बन जावै ।

जब मोदी दिल्ली मैं आवै ।।

चीन पाक दोउ निकट न आवै ।

जब मोदी को नाम सुनावै ।।

नासहिं दुष्ट और अपराधा ।

भ्रष्टाचार मिटावहिं बाधा ।।

करहि विकास स्वर्ग सम सुंदर ।

बनहि राम को सुंदर मंदिर ।।

असुर निवारि सुरन्ह कौ थापैं ।

निर्धनता कबहुँ न व्यापै ।।

मोदी मंत्र एक सम जाना ।

करहि विकास राष्ट्र सनमाना ।।

भारत राष्ट्र पराक्रमशाली।

होहि सिद्ध यह संशय नाही ।।

जय मोदी ।।