अब बोलेगी गीताः बांसुरी की धुन में मिलेगा ज्ञान, तेजी से बढ़ रही मांग

भारत में भी भगवद गीता का बोलता हुए संस्करण तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने इसके बारे में कहा है कि इस डिजिटल संस्करण से हर वर्ग, भाषा, समुदाय, जाति और धर्म के लोग भारतीय पुरातन सभ्यता , संस्कृति और अध्यात्म से परिचित हो सकेंगे।   

बोलने वाली भगवद् गीता। यानी गीता का डिजिटल संस्करण इन दिनों दुनिया के तमाम देशों में धूम मचा रहा है। भगवद् गीता का डिजिटल वर्जन आईटी सेक्टर और संचार क्रांति का बेजोड़ नमूना है। आस्थावान लोग इसको बड़े गौर से सुनते हैं। भगवद् गीता के इस डिजिटल संस्करण को बहुत खूबसूरती से तैयार किया गया है। इस पुस्तक में दिये गए चित्रों पर वायस पेन को रखते ही वह उस चित्र से संबंधित अध्याय का वर्णन शुरू कर देता है। इसी तरह से जिस अध्याय को पढ़ना हो उसके ऊपर रखते ही वह संस्कृत में श्लोक और हिन्दी में अर्थ बोलना शुरू कर देता है। यह इंगलिश में भी उपलब्ध है इसके अलावा अगर आप इस डिवाइस को शंख के ऊपर ऱखेंगे तो शंख बजेगा। बांसुरी के ऊपर रखते ही बांसुरी की धुन सुनाई देगी।

भारत से ज्यादा विदेशों में मांग

भगवद् गीता के इस संस्करण की मांग भारत से ज्यादा विदेशों में है। कई मुस्लिम कंट्री में इसे पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है।

इसे भी पढ़ें  भारत की इस मशहूर राजकुमारी को हुआ कोरोना, पति, बेटा और ससुर भी चपेट में

इसके अलावा ब्रिटेन , फ़्रांस , कनाडा , अमेरिका समेत कई लैटिन देशों में भी इसका इंग्लिश और उन देशों की मूल भाषाओँ में संस्करण स्कूलों और अन्य शैक्षणिक केंद्रों में उपलब्ध है। बच्चों के चरित्र निर्माण और जीवन जीने की शैली सिखाने के लिए इसकी पढाई कराई जाती है।

भारत में भी भगवद गीता का बोलता हुए संस्करण तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने इसके बारे में कहा है कि इस डिजिटल संस्करण से हर वर्ग, भाषा, समुदाय, जाति और धर्म के लोग भारतीय पुरातन सभ्यता , संस्कृति और अध्यात्म से परिचित हो सकेंगे।

हिन्दी संस्कृत दोनो में उपलब्ध

इसमें 2 जीबी मेमोरी कार्ड के साथ कैमरा भी है, जब हम एमपीआर पेन को ऐबेड की गई बुक के ऊपर रखते है तो इसमें प्री लोडेड ऑडियो फाइल एक्टिव हो जाती है और हमें गीता का श्लोक सुनाई देता है।

इसे भी पढ़ें देश में कोरोना का रिकवरी रेट 48.07 फीसदी हुआ: स्वास्थ्य मंत्रालय

इस अनोखी तकनीक के माध्यम से पाठक जब भी गीता का पढ़ते है तो संस्कृत में उन्हें आवाज भी सुनने को मिलती है, गीता का यह अर्थ हिन्दी में भी उपलब्ध है और यह भी एमपीआर तकनीक से युक्त है।

यह 162 पृष्ठों की एक हार्ड कापी है और इसमें श्रीमद्भगवद गीता के सभी अठारह अध्याय पाठकों के अनुकूल फोंट एवं आवाज में प्रस्तुत किए गए हैं।

कीमत भी अनूठी जान कर चौंक जाएंगे

इसके अलावा DMP DIGITAL TECHNOLOGIES P.LTD द्वारा तैयार और प्रकाशित भगवद् गीता के संस्करण की कीमत 34 हजार 490 है। इसमें 150 से अधिक मूल चित्र हैं। यह TOUCH-SOUND-VISUAL तकनीक का एक अनूठा संयोजन है।

इसे भी पढ़ें कोरोना से रिकवरी रेट में लगातार बढ़ोतरी: स्वास्थ्य मंत्रालय

इसके साथ प्रीमियम गिफ्ट बॉक्स भी है जिसमें GITA, बुद्धि बांसुरी, प्रसाद और चार्जर शामिल हैं। यह आकर्षक रूप से डिज़ाइन किया गया है और इसे किसी भी अवसर पर उपहार में दिया जा सकता है।

भारत में सस्ता संस्करण भी

श्रीमद् भगवत गीता को दुनिया की पहली बोलने वाली गीता के रुप में भोपाल स्थित आदर्श प्राइवेट लिमिटेड द्वारा प्रकाशित किया गया है। इस पुस्तक के बारे में अनोखी बात यह है कि पाठक किताब को पढ़ने के साथ-साथ पवित्र लिपियों में भी सुन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें कश्मीर में कोरोना से एक और युवक की मैौत, अब तक JK में 33 लोगों की मौत

यह गीता मल्टीमीडिया प्रिंट रीडर ‘एमपीआर’ टेक्नोलॉजी से एबेडेड है। इसमें इनबिल्ट स्पीकर के साथ टॉकिंग पेन भी है जो पढ़ने के साथ-साथ सुनने में सहायक है।

जो लोग सस्ता संस्करण लेना चाहें तो उनके लिए इससे मिलता जुलता आदर्श मल्टीमीडिया प्रिंट रीडर का श्रीमद्भवद्गीता का संस्करण टाकिंग पेन के साथ 3999 रुपये में उपलब्ध है।