Top

कोरोना महामारी या नव सृजन का संदेश?

कोरोना महामारी ने लगभग हर विकसित और विकासशील देश को घुटने टेंकने पर मजबूर कर दिया है। ये एक वैश्विक आपदा है। इतनी बड़ी आपदा को मैंने कभी इतनी नजदीक से नही देखा और शायद दो पीढ़ी पहले भी किसी नही देखा था।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 2 April 2020 3:03 PM GMT

कोरोना महामारी या नव सृजन का संदेश?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अनुज हनुमत

कोरोना महामारी ने लगभग हर विकसित और विकासशील देश को घुटने टेंकने पर मजबूर कर दिया है। ये एक वैश्विक आपदा है। इतनी बड़ी आपदा को मैंने कभी इतनी नजदीक से नहीं देखा और शायद दो पीढ़ी पहले भी किसी नहीं देखा था। इसका मतलब इस आपदा के तार बीसवीं शताब्दी के मनुष्य से ही जुड़ें हैं। मैं इस उम्र में लगभग समूचा भारत घूम चुका हूं और एक बात तो अपने ही देश मे देख चुका हूं कि हम बहुत बदल गए हैं, इतने की हम खुद इसका अंदाजा नहीं लगा सकते।

एक विकासशील देश का नागरिक हूं इसलिए हर परिस्थिति को काफी नजदीक से देख रहा हूं। शायद हम ही विकसित देश के नजरिये और उसकी जीवनशैली को समझ सकते हैं और उसका कारण ये भी है कि हम हर पल उसका अनुसरण भी करना चाहते हैं, लेकिन क्या आपने सोंचा की जो गलतियां उन्होंने की ,हम भी आंख में पट्टी बांधकर वैसा ही करते जाएं।

यह भी पढ़ें...कोरोनाः सरकारें अपना मौन तोड़ें

यकीन मानिए ये आपदा हमें ये बताने आई है की हमें उन देशों का अनुसरण नहीं करना चाहिए, क्योंकि जिसने भी प्रकृति का नुकसान किया है उसे हर्जाना तो देना ही पड़ा है ।ये कम और ज्यादा हो सकता है लेकिन बचेगा कोई नही । एक विकासशील देश के तौर पर हमने भी पिछले 50 वर्षों में बहुत सी गलतियां की हैं।

सबसे बडी गलती ये की हमने भी विकसित देशों की तरह अपने विकास के लिए प्रकृति को नुकसान पहुँचाया। कहीं प्रकृति ने समूचे विश्व को चेतावनी तो नही दी कोरोना आपदा के रूप में ,यकीन मानिए अगर ये सच है तो हमें हर हालत में अपने विकास के मॉडल को बदलना होगा।

यह भी पढ़ें...नोटों की माला से किया गया स्वागत .. .भावुक हुए लोग

हम सब बहुत ही कठिन दौर से गुजर रहे हैं, लेकिन यक़ीन मानिए कोरोना से इस सीधी जंग में जीत हमारी ही होगी। क्योंकि हमारा देश धैर्य, सादगी, स्थायित्व और आपसी बन्धुत्व के लिए विश्वविख्यात है। बस हमें घर पर तब तक रहना है जब तक इसका प्रकोप खत्म न हो जाये। ये शब्द लॉकडाउन जरूर है लेकिन इसे सकारात्मक रूप में देखिये। इस समय हमें घर मे रहकर चिंतन करने की आवश्यकता है की आखिर हम अपने आस पास कैसी परिस्थितियों को जन्म दे रहे हैं?

हम कैसे समाज की स्थापना कर रहे हैं ? आखिर क्यों हमें अस्सी के दशक उस लोकप्रिय सीरियल को पुनः दिखाने की मांग करनी पड़ी जिसने उस समय हर भारतीय के अंदर मर्यादा और आपसी बन्धुत्व की भावना का प्रसार किया। आखिर हम साधारण जीवन जीने से भी क्यों पीछे भाग रहे हैं? गांवों का जीवन कठिन जरूर होता है लेकिन साधारण भी उतना ही। हमें कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देना चाहिए, क्योंकि आज आप किसान के द्वारा बोये अनाज के ही सहारे घर पर ठहरे हैं।

यह भी पढ़ें...अमीर बनने की लालसा दे रही अपराध के नए तरीकों को जन्‍म, सामने आए फर्जीवाड़े के मामले

मैंने अपने जीवन मे किसी भी तरह की महामारी नहीं देखी लेकिन इस कोरोना के प्रकोप से इतना जरूर समझ आ रहा है कि हर आपदा व्यापक स्तर पर बहुत कुछ सोंचने को मजबूर करती है। सबसे बड़ा प्रश्न ये भी है कि हम आपदा के भावी प्रकोप से डर रहे हैं या फिर हमे प्रकृति के मिजाज की जरा भी चिंता नहीं।सभी देशों में लगभग हर सिस्टम आज लाचार है इस आपदा के सामने सिर्फ इसलिए क्योंकि हमने प्रकृति के साथ किये जा रहे गलत व्यवहार पर हमेशा पर्दा डालने का काम किया है। आज जब प्रकृति में मौजूद एक वायरस ने कोहराम मचा दिया तो सबकी हेकड़ी निकल गई।

प्लान तो दूसरे ग्रहों पर रहने का बना लिया है मानव ने, लेकिन यकीन मानिए ये सुंदर प्रकृति आपको इसे तबाह करके यूहीं जाने नहीं देगी ,आपको हर्जाना यूही देते रहना होगा । शायद वो दिन भी आये जब हर्जाना देने के लिए हमारे पास कुछ हो ही न। क्या आपने कभी सोंचा की आने वाली पीढियां हमसे क्या चाहती हैं? उन्हें शांति, सादगी, प्रदूषण रहित वातारण और ठहराव चाहिए होगा तो क्या आप दे पाएंगे? अगर उन्होंने सिर्फ ये खूबसूरत प्रकृति मांग ली तो क्या आप दे पाएंगे? अगर बचेगा तभी सोंच भी पाएंगे आप देने को उन्हें एक सुंदर कल।

यह भी पढ़ें...बैंकों का बदल गया समय, तो जाने किस दिन किसको है जाना

विश्वास मानिए,मानव जाति के लिए सबसे सुरक्षित और सुंदर जगह यही धरती है। अगर नित नए विज्ञान से लबरेज मनुष्य को ये लगता है कि उसके पास इस धरती का विकल्प है तो ये छल है खुद से, क्योंकि अगर ऐसा होता तो हमारे पूर्वज जो हमसे ज्यादा होशियार और परिपक्व थे वो भी किसी अन्य ग्रह पर रह होते । उन्होंने विरासत में हमे अगर ये सुंदर और स्वच्छ धरती दी है तो इसके पीछे कोई कारण जरूर होगा।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story