Top

कोरोना में परवान चढ़ा ये इश्क, दादा दादी की ये प्रेम कहानी उड़ा देगी आपके होश

चीन के इस दंपति में पति को कोरोना से पीड़ित होने पर अस्पताल में भर्ती किया जाता है। पत्नी अपने प्यारे पति से मिल नहीं पाती क्योंकि शहर में लॉकडाउन हो जाता है, बेकरारी और बेचैनी की हालत में वह अपने पति को प्यार भरी चिट्ठियां लिखनी शुरू कर देती है।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 31 March 2020 7:51 AM GMT

कोरोना में परवान चढ़ा ये इश्क, दादा दादी की ये प्रेम कहानी उड़ा देगी आपके होश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

एक तरफ देश में पत्नियों से झूठ बोलकर बैंकाक व पटाया बीच में जाकर गुलछर्रें उड़ाने वाले पतियों की कोरोना वायरस पोल खोल रहा है तो दूसरी तरफ उम्रदराज ऐसे बुजुर्गों की प्रेम कहानियां सामने आ रही हैं जो 80-90 साल की उम्र में कोरोना से जंग जीतने का परचम लहरा रहे हैं। ऐसी ही एक कहानी केरल की सामने आई है।

जिसे आप इस लिंक पर पढ़ सकते हैं

https://newstrack.com/india/corona-won-the-war-93-years-now-this-elderly-couple-together-546669.html

दूसरी कहानी चीन में कोरोना के कहर का शिकार बने एक दम्पति के प्रेम की है। जिन पर बागवान फिल्म का ये गाना मै यहां तू वहां जिंदगी है कहां फिट बैठता है।

चीन के इस दंपति में पति को कोरोना से पीड़ित होने पर अस्पताल में भर्ती किया जाता है। पत्नी अपने प्यारे पति से मिल नहीं पाती क्योंकि शहर में लॉकडाउन हो जाता है, बेकरारी और बेचैनी की हालत में वह अपने पति को प्यार भरी चिट्ठियां लिखनी शुरू कर देती है। आप सोच रहे हैं होंगे ये जवां दिलों का प्यार है। कोई नवविवाहित जोड़ा होगा। अगर आप ये सोच रहे हैं तो गलत हैं।

ये कहानी कोरोना से शुरुआती दौर में प्रभावित हुए चीन के हांगझोउ शहर की है। यहां की रहने वाली 84 वर्षीय हुआंग गुओकी के 90 वर्षीय पति मिस्टर सन को सांस लेने की दिक्कत और डिमेंशिया बीमारी के चलते हांगझोउ के अस्पताल में भर्ती किया गया था।

शुरुआत में पति सन से मिलने हुआंग हर रोज अस्पताल जाया करती थीं, लेकिन इस बीच कोरोना वायरस की वजह से शहर में लॉकडाउन हो गया। लोगों का घरों से निकलना प्रतिबंधित कर दिया गया। अस्पताल ने भी मरीजों के तीमारदारों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया। ऐसे कठिन वक्त में हुआंग के आँसू नहीं थम रहे थे वह फंस गई थी।

प्रेम की लिए बनाई ये योजना

आखिर हुआंग ने कुछ सोचा वह अस्पताल गई। आईसीयू के बाहर नर्स को पति को पसंद कीवी फ्रूट और एक चिट्ठी दी।

इन चिट्ठियों में हुआंग अपने पति मिस्टर सन से कहती थीं कि बीमारियों से लड़ने और मुझसे दूर रहने के लिए आपको मजबूत बनना होगा। आप मजबूत बने रहिए। बच्चे और नाती-पोते सब ठीक हैं। जैसा नर्स और डॉक्टर कहें वैसा आप करते रहिए। मैं आपसे बहुत प्यार करती हूं।

इन दादा दादी की प्रेम कहानी से पूरे अस्पताल का स्टाफ हैरान रह गया। धीरे धीरे पूरा शहर उनके प्यार का जान गया है। भारत की फिल्म बागवां का यह गाना इन दादा दादी पर सटीक बैठ रहा है बागवान फिल्म का ये गाना मै यहां तू वहां जिंदगी है कहां फिट बैठता है।

राम केवी

राम केवी

Next Story