क्रिकेटर का निधन: शोक में डूबी पूरी भारतीय क्रिकेट टीम, बनाए हैं ये रिकॉर्ड

पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेटर माधव आप्टे का सोमवार की सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 86 वर्ष के थे। आने वाली 5 अक्टूबर को माधव आप्टे का जन्मदिन था लेकिन अपने जन्मदिन के पहले ही सबसे विदा ले लिया। उनके हृदय की गति रुकने के बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था।

क्रिकेटर का निधन: शोक में डूबी पूरी भारतीय क्रिकेट टीम, बनाए हैं ये रिकॉर्ड

क्रिकेटर का निधन: शोक में डूबी पूरी भारतीय क्रिकेट टीम, बनाए हैं ये रिकॉर्ड

नई दिल्ली : पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेटर माधव आप्टे का सोमवार की सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह 86 वर्ष के थे। आने वाली 5 अक्टूबर को माधव आप्टे का जन्मदिन था लेकिन अपने जन्मदिन के पहले ही सबसे विदा ले लिया। उनके हृदय की गति रुकने के बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था। जहां पर उन्होंने सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर आखिरी सांस ली।

यह भी देखें… अलवर में फिर मॉब लिंचिंग: भीड़तंत्र ने बनाया एक और को अपना शिकार

 माधव आप्टे

बता दें कि माधव आप्टे ने अपने करियर में सात टेस्ट मैच खेल और 542 रन बनाए। जिसमें केवल एक शतक शामिल है। इसके साथ ही प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उन्होंने 67 मैचों में 3336 रन बनाए हैं।

माधव आप्टे, एक मध्यक्रम बल्लेबाज थे, हालांकि वीनू मांकड़ के आग्रह पर बाद में वे बतौर सलामी बल्लेबाज खेलने लगे। मुंबई के लिए 46 और बंगाल के लिए तीन रणजी मैच खेलने वाले आप्टे के नाम एक अनोखा रिकॉर्ड भी दर्ज है। वह एक टेस्ट सीरीज में 400 से ज्यादा रन बनाने वाले पहले सलामी बल्लेबाज थे। उन्होंने 1953 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 460 रन बनाए थे।

माधव आप्टे

यह भी देखें… 500 आतंकी सक्रिय: आर्मी चीफ की पाक को कड़ी चेतावनी, इस बार कर देंगे ये हाल

माधव आप्टे के करियल की शुरूआत

आपको बता दें कि माधव आप्टे शुरुआती दौर में लेगब्रेक गेंदबाज थे, लेकिन कॉलेज में उनके कोच रहे वीनू मांकड़ ने उनके अंदर छुपी बल्लेबाजी की प्रतिभा को पहचानकर उनसे ओपनिंग कराना शुरू कर दिया। आप्टे कुछ वक्त के लिए ‘क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया’ के अध्यक्ष भी रहे थे। इसके अलावा वे आजीवन ‘लीजेंड्स क्लब’ के अध्यक्ष रहे। जिसका गठन अलग-अलग खिलाड़ियों की उपलब्धियों को सेलिब्रेट करने के लिए हुआ था।

इन लोगों ने ट्वीट के  जरिए व्यक्त किया शोक