सेंचुरी लगाने के बाद खूब रोए थे सचिन, इस दुख की घड़ी में भी खेला था मैच

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के नाम शतकों का शतक लगाने का रिकॉर्ड दर्ज है। अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच में सचिन के शतकों की लिस्ट देखें तो…

नई दिल्ली: क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के नाम शतकों का शतक लगाने का रिकॉर्ड दर्ज है। अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच में सचिन के शतकों की लिस्ट देखें तो उनका 22वां शतक काफी बिरला था। आज ही के दिन (23 मई) 21 साल पहले उन्होंने ब्रिस्टल में इमोशनल कर देने वाला शतक लगाया था। उसे इमोशनल कर देने वाला शतक इसलिए कहेंगे क्योंकि उससे ठीक चार दिन पहले उनके पिता का निधन हो गया था।

ये भी पढ़ें: राहुल से बोली महिला- हमारे साथ बच्चा है, तीन दिन से भूखे मर रहे हैं, आगे हुआ ये

पिता के निधन के बाद…

1999 के वर्ल्ड कप के दौरान भारत पहला मैच साउथ अफ्रीका से हार चुका था। अगला ही मैच जिम्बाब्वे से था, जो कि एक मजबूत टीम थी। उस मैच से पहले ही एक बुरी खबर आ गई। मास्टर ब्लास्टर के पिता रमेश तेंदुलकर का निधन हो गया। इस घटना से भारतीय टीम और प्रशंसक स्तब्ध रह गए। अगला मैच जिम्बाब्वे से था और सचिन को पिता के अंतिम संस्कार के लिए भारत लौटना पड़ा।

ये भी पढ़ें: आ गई कोरोना की दवा: 108 लोग हुए ठीक, नहीं है साइड इफेक्ट का भी खतरा

सचिन की नामौजूदगी में हारने लगी टीम

हालांकि सचिन की इस मजबूरी से हर कोई वाकिफ था। फिर जिम्बाब्वे के खिलाफ वर्ल्ड कप का वह मैच इंडिया को सचिन के बिना ही खेलना पड़ा। नतीजा हुआ कि भारतीय टीम तीन रन से मैच हार गई। फिर लगातार दो मैच हारने के बाद टीम इंडिया पर वर्ल्ड कप से बाहर होने का खतरा मंडराने लगा। उस मैच के बाद अगला मैच केन्या से था।

ये भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन पर इस देश को मिली कामयाबी, दूसरे स्टेज पर पंहुचा ट्रायल

फिर आए सचिन तो…

बिना सचिन के टीम इंडिया की वर्ल्ड कप की राह कठिन थी। लेकिन पिता का अंतिम संस्कार कर मास्टर ब्लास्टर सीधे केन्या के खिलाफ मैच खेलने पहुंच गए। ब्रिस्टल के काउंटी ग्राउंड पर उस मैच में सचिन ने 101 गेंद पर नाबाद 140 रन ठोक डाले। उनकी इस धमाकेदार पारी की बदौलत इंडिया ने 329/2 का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा कर दिया।

ये भी पढ़ें: कोरोना इफेक्ट : पुतले ले रहे इन्सानों की जगह

रोते हुए पिता को किया याद

इस मैच मेंं शतक पूरा करने के बाद सचिन आसमान की ओर बल्ला उठाकर पिता को याद करते हुए रोते दिल से याद किया। उन्होंने देश के लिए अपनी ऐसी हालत में योगदान दिया था। केन्या की टीम उस स्कोर का पीछा करते हुए 235/7 रन तक ही पहुंच पाई। इंडिया ने उस मैच में 94 रनों से जीत हासिल की थी। उस मैच में सचिन मैन ऑफ द मैच चुने गए थे। हालांकि टीम इंडिया टॉप सिक्स में पहुंच गई थी पर बाद में पीछे हो गई थी।

ये भी पढ़ें: कोरोना का कहर: 24 घंटे में आए कोरोना के 6654 नए केस, इतने लोगों की गई जान