×

बाधा बना पाकिस्तान का ये बॉलर, अमेरिकी स्टार से मिलती है शकल

तौसीफ उस समय पाकिस्तान के स्टार बॉलर बन गए जब 1987 में पाकिस्तान के भारत दौरे पर बंगलौर टेस्ट में 16 रन की पाकिस्तान की रोमांचक जीत में अहम भूमिका निभाई।

Aradhya Tripathi

Aradhya TripathiBy Aradhya Tripathi

Published on 10 May 2020 7:00 AM GMT

बाधा बना पाकिस्तान का ये बॉलर, अमेरिकी स्टार से मिलती है शकल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आज से 33 साल पहले जब पाकिस्तान भारत टेस्ट क्रिकेट खेलने आया था। तब पाकिस्तान की टीम में एक एक स्पिनर था। उस स्पिनर को पाकिस्तान के चालाक स्पिनर्स में से एक माना जाता है। आज हम बात कर रहे हैं पाकिस्तानी स्पिन गेंदबाज तौसीफ अहमद की। आज तौसीफ का जन्मदिन है और वो आज 62 साल के हो गए हैं। वैसे तो तौसीफ को ख़ास पहचान 1987 में भारत दौरे पर मिली थी। लेकिन एक और बात थी जो तौसीफ को हमेशा चर्चा में रखती थी। वो ये थी की तौसीफ अहमद का चेहरा मशहूर अमेरिकी सिंगर लियोनेल रिची से मिलता-जुलता था। रिची ने अपने ज़माने में खूब धूम मचाई थी।

1987 में भारत के खिलाफ मैच से मिली पहचान

तौसीफ उस समय रातोंरात पाकिस्तान के स्टार बॉलर बन गए जब 1987 में पाकिस्तान के भारत दौरे पर बंगलौर टेस्ट में 16 रन की पाकिस्तान की रोमांचक जीत में अहम भूमिका निभाई। क्योंकि इस जीत के साथ पाकिस्तान 5 मैचों की टेस्ट सीरीज को 1-0 से जीतने में सफल हुआ था।

ये भी पढ़ें- गोरखपुर में गायब हो गए शराब पीने वाले, जानें क्या है वजह

स्पिनर्स की मददगार उस पिच पर पाकिस्तान की उस समय की स्पिन जोड़ी तौसीफ और इकबाल कासिम ने उस मैच में 9-9 विकेट चटकाए थे। पाकिस्तान के इस चर्चित स्पिनर ने अपना पहला मैच 1980 में खेला था। लेकिन पहचान उन्हें भारत के खिलाफ इस मैच से ही मिली।

गावस्कर नहीं दिला पाए थे टीम को जीत

भारत को उस मैच में जीत के लिए 221 रनों का लक्ष्य मिला था। लेकिन भारतीय टीम के विकेट नियमित अंतराल पर गिरते रहे। जिसके चलते भारत उस मैच के साथ उस सीरीज को भी बचाने में नाकाम रहा। उस मैच में भारत की तरफ से अकेले अपना आखिरी मैच खेल रहे लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर ने ही संघर्ष किया। गावस्कर अकेलीक छोर संभाले खड़े रहे। और उन्होंने 96 रन जुझारू पारी खेली। लेकिन अफ़सोस की गावस्कर भारत को मैच जीताने में सफल नहीं हो सके।

ये भी पढ़ें- मजदूरों पर कुछ कृपा करें

और 96 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर वो आउट हो गए गावस्कर जिस समय आउट हुए उस समय भारत का स्कोर 180/8 था।लेकिन भारत उस समय शेष 40 रन नहीं बना सका। और मैच के साथ सिरीज भी उसे गंवानी पड़ी। पाकिस्तान की ओर से उसके दोनों स्पिनर्स तौसीफ-कासिम ने 4-4 विकेट झटके। तौसीफ अहमद ने अपने करियर के 34 टेस्ट मैचों में 93 विकेट चटकाए। लेकिन वो पाकिस्तान टीम में चमक नहीं सके। 1993 में जिम्बाब्वे के खिलाफ कराची में उन्होंने अपना अंतिम मैच खेल कर क्रिकेट को अलविदा कह दिया।

Aradhya Tripathi

Aradhya Tripathi

Next Story