Top

Tokyo Olympic 2020: खिलाड़ियों पर सख्त पहरा, मौज-मस्ती और शॉपिंग पर रोक

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 5 Feb 2021 7:49 AM GMT

Tokyo Olympic 2020: खिलाड़ियों पर सख्त पहरा, मौज-मस्ती और शॉपिंग पर रोक
X
Tokyo Olympic 2020: रहेगा खिलाड़ियों पर सख्त पहरा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympic 2020) गेम्स में इस बार खिलाड़ियों को कड़े प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा। मौज-मस्ती और शॉपिंग के लिए चर्चा में रहने वाले ओलंपिक में इस बार खिलाड़ियों को एक-दूसरे से मिलने और गले मिलने की भी छूट नहीं होगी। लंदन और रियो ओलंपिक में जिस तरह से खिलाड़ियों के सेक्स किस्से सामने आए थे, इस बार ऐसा कुछ भी नहीं होने वाला है। खिलाड़ियों को एक साथ कमरे में ठहरने नहीं दिया जाएगा। ओलंपिक खेलों के पूरे सीजन में उन्हें खेल गांव में रहने का मौका भी नहीं मिलेगा।

कोरोना के चलते टाला गया टोक्यो ओलंपिक

कोविड की वजह से टोक्यो ओलंपिक को एक साल के लिए टाला गया है। जुलाई 2021 में ओलंपिक गेम्स -2020 की तैयारी तेज हो गई है। लेकिन पूरी दुनिया अब भी कोरोना वायरस से दहशत में है । ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) ने बुधवार को खेल आयोजन से संबंधित गाइड लाइन को चार हिस्सों में जारी किया है। इस गाइड लाइन के अनुसार टोक्यो ओलंपिक में खिलाड़ियों के शारीरिक संपर्क में आने पर पूरी तरह प्रतिबंध लागू किया गया है।

यह भी पढ़ें: वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी: नार्मल होने में लग जाएंगे 7 साल, जानिए दुनिया की स्थिति

ओलंपिक खेलों के दौरान खेल गांव के अंदर का जीवन बेहद उन्मुक्त और खुलेपन के लिए मशहूर है। खेल गांव में खिलाड़ियों के किस्से अक्सर खबर बनते रहे हैं। अमेरिकी निशानेबाज जोश लाकाटोस ने अपने एक इंटरव्यू में बताया है कि लंदन ओलंपिक के दौरान उन्होंने देखा है कि किस तरह महिला खिलाड़ियों के बाहर टहलने के दौरान उनकी ही टीम के लड़के पीछा करते रहे हैं।

तैराक रयान लोचते ने तो इससे भी एक कदम आगे बढक़र दावा किया है कि लंदन ओलंपिक के दौरान 70-75 प्रतिशत ओलंपियन ने खेल गांव में सेक्स किया है। रियो ओलंपिक में तो आईओसी ने कथित तौर पर 4,50,000 कंडोम खरीदे थे, जो कि खेल गांव में रहने वालों को बांटे गए थे।

olympic (फोटो क्रेडिट- सोशल मीडिया)

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य

टोक्यो में, हालांकि, एथलीटों के लिए जिंदगी ऐसी नहीं होगी। यहां सोशल डिस्टेंसिंग यानी शारीरिक दूरी नियम का पालन अनिवार्य किया गया है। 11,000 एथलीटों को पहले ही बता दिया गया था कि उनका गांव के अंदर रहना पहले के ओलंपिक आयोजनों के मुकाबले बेहद कम होगा।

अब तक ओलंपिक खेलों के शुरू होने से लेकर उनकी समाप्ति तक खिलाड़ियों को खेल गांव में रहने और खेल अभ्यास का मौका मिलता रहा है लेकिन इस बार उन्हें अपनी खेल प्रतियोगिता के आयोजन से केवल पांच दिन पहले अंदर जाने की अनुमति होगी और प्रतियोगिता समाप्त होने के बाद उन्हें दो दिनों के भीतर छोडऩा होगा।

यह भी पढ़ें: विदेशी हस्तियों की टिप्पणी पर तीखी प्रतिक्रिया, अमेरिकी बयान पर बदला रुख

कोई शारीरिक संपर्क नहीं

गाइड लाइन के मुताबिक, खिलाड़ियों को शारीरिक संपर्क से भी बचना होगा, जिसमें हैंडशेक और गले मिलना भी शामिल हैं। आयोजन समिति ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि शारीरिक रूप से अन्य एथलीटों के साथ बातचीत करते समय भी दो मीटर की दूरी बनाए रखनी होगी।

यही इतना नहीं खिलाड़ियों को टोक्यो के दर्शनीय स्थल पर जाकर घूमने या बाजार से शॉपिंग करने का भी मौका नहीं मिलेगा। खिलाड़ियों को टोक्यो में दर्शनीय स्थलों की यात्रा करने और यहां तक कि हवाई अड्डे पर खरीदारी करने की अनुमति नहीं दी गई है।

नियम पुस्तिका में कहा गया है, "आपको पर्यटक क्षेत्रों, दुकानों, रेस्तरां या बार में नहीं जाना चाहिए।" उन्हें बिना पूर्व अनुमति के सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने से भी रोक दिया जाएगा और भोजन करते या सोते समय सभी खिलाडय़िों को मास्क पहनना होगा।

रिपोर्ट- श्वेता पांडेय

यह भी पढ़ें: अमेरिका इज बैक: अब चीन की हालत होगी खराब, राष्ट्रपति बाइडन ने दी कड़ी चेतावनी

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story