Top

अनूठा संयोग: डॉन ब्रैडमैन व लाला अमरनाथ का कमाल, दोनों ने इसी दिन बनाए 118 रन

क्रिकेट की दुनिया में माना जाता है कि डॉन ब्रैडमैन जैसा दूसरा बल्लेबाज पैदा नहीं हुआ। डॉन ब्रैडमैन अपने पहले फर्स्ट क्लास मैच के दौरान न्यू साउथ वेल्स के लिए खेलने उतरे थे और उनके सामने थी साउथ ऑस्ट्रेलिया की टीम।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 17 Dec 2020 5:00 AM GMT

अनूठा संयोग: डॉन ब्रैडमैन व लाला अमरनाथ का कमाल, दोनों ने इसी दिन बनाए 118 रन
X
अनूठा संयोग: डॉन ब्रैडमैन व लाला अमरनाथ का कमाल, दोनों ने इसी दिन बनाए 118 रन (PC: Social Media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: क्रिकेट की दुनिया के दो दिग्गजों डॉन ब्रैडमैन और लाला अमरनाथ का 17 दिसंबर की तारीख के साथ अनूठा संयोग जुड़ा हुआ है। मजे की एक बात और यह भी है कि इन दोनों दिग्गजों बल्लेबाजों ने इस तारीख को अपनी शानदार बल्लेबाजी के दौरान 118 रन ही बनाए थे। डॉन ब्रैडमैन ने 17 दिसंबर, 1927 को अपने पहले फर्स्ट क्लास क्रिकेट के दौरान 118 रनों की पारी खेली थी जबकि लाला अमरनाथ ने 1933 में इसी तारीख को अपने पहले टेस्ट मैच के दौरान शानदार 118 रन बनाकर सबका दिल जीत किया था।

ये भी पढ़ें:भारत-बांग्लादेश के बीच होंगे ये अहम समझौतें, मोदी-शेख हसीना की वार्ता आज

सातवें नंबर पर खेलने उतरे थे ब्रैडमैन

क्रिकेट की दुनिया में माना जाता है कि डॉन ब्रैडमैन जैसा दूसरा बल्लेबाज पैदा नहीं हुआ। डॉन ब्रैडमैन अपने पहले फर्स्ट क्लास मैच के दौरान न्यू साउथ वेल्स के लिए खेलने उतरे थे और उनके सामने थी साउथ ऑस्ट्रेलिया की टीम।

इस मैच के दौरान उन्होंने 118 रनों की शानदार पारी खेली थी। ब्रैडमैन को इस मैच के दौरान सातवें नंबर पर बैटिंग करने के लिए भेजा गया था और उन्होंने इस मौके को भी खास बना लिया।

शतक के बावजूद हारी ब्रैडमैन की टीम

उन्होंने अपनी इस पारी के दौरान 8 चौके लगाए थे। हालांकि इस मैच की दूसरी पारी के दौरान ब्रैडमैन बड़ी पारी नहीं खेल सके और सिर्फ 33 रन बनाकर ही बोल्ड आउट हो गए। ब्रैडमैन के शतक लगाने के बावजूद उनकी टीम न्यू साउथ वेल्स साउथ ऑस्ट्रेलिया से हार गई थी। साउथ ऑस्ट्रेलिया की टीम ने एक विकेट से यह मैच जीत लिया था। आठ साल बाद डॉन ब्रैडमैन साउथ ऑस्ट्रेलिया की टीम का हिस्सा बने और वहीं पर उन्होंने अपने करियर को विराम दिया।

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में जोड़ें 170 शतक

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में भी ब्रैडमैन का करियर बहुत शानदार रहा था और उन्होंने 234 मैचों में 95.14 की औसत के साथ 28067 रन बनाए थे। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में ब्रैडमैन ने 117 शतक और 69 अर्धशतक जड़े।

20 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत

फर्स्ट क्लास क्रिकेट के करीब एक साल बाद 1928 में ब्रैडमैन ने टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया। अपने पहले टेस्ट के दौरान ब्रैडमैन कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके और इंग्लैंड के खिलाफ सिर्फ 19 रन ही बना सके। ब्रैडमैन के टेस्ट करियर का आगाज उनकी घरेलू जमीन पर ब्रिसबेन में हुआ था और उस समय ब्रैडमैन की आयु सिर्फ 20 साल ही थी।

इस टेस्ट मैच में जहां ब्रैडमैन ने 20 साल की आयु में डेब्यू किया था, वहीं 46 साल के बर्ट आयरनमॉन्गर ने 46 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट खेलना शुरू किया था। दोनों खिलाड़ियों के लिए यह टेस्ट मैच किसी भी तरह से यादगार नहीं रहा क्योंकि इंग्लैंड ने इस मैच में आस्ट्रेलिया को 675 रनों के विशाल अंतर से हराया था।

आखिरी पारी में शून्य पर हुए आउट

ब्रैडमैन ने अपने करियर के दौरान 52 टेस्ट मैच खेले और इस दौरान उन्होंने 29 शतक और 13 अर्धशतकों की मदद से 6996 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत 99.94 का रहा। ये ब्रैडमैन का दुर्भाग्य ही था कि अपनी आखिरी पारी में वे शून्य पर आउट हो गए क्योंकि अगर शून्य पर आउट होने की जगह वे सिर्फ एक चौका लगा देते तो उनका औसत सौ का रहता।

ब्रैडमैन का औसत सबसे बेहतर

आज तक दुनिया में कोई ऐसा दूसरा बल्लेबाज नहीं हुआ जिसका औसत ब्रैडमैन से बेहतर हो। क्रिकेट की दुनिया में आज भी यह बात मानी जाती है कि सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों की लिस्ट में ब्रैडमैन ही नंबर एक पर हैं। ब्रैडमैन के बाद दुनिया में कई और दिग्गज क्रिकेटर जरूर आए मगर कोई भी ब्रैडमैन का रिकॉर्ड नहीं तोड़ सका।

हालांकि कई खिलाड़ियों ने ब्रैडमैन से ज्यादा शतक और रन बनाए मगर किसी का भी औसत ब्रैडमैन के आसपास भी नहीं है। यही कारण है कि ब्रैडमैन को आज भी क्रिकेट की दुनिया में अलग मुकाम हासिल है।

लाला ने पहले टेस्ट में ही जड़ दिया था शतक

जहां तक लाला अमरनाथ का सवाल है तो वे ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होंने क्रिकेट में राजा-महाराजाओं के वर्चस्व को खत्म करने की शुरुआत की। अमरनाथ ने 1933 में मुंबई जिमखाना में अपने पहले टेस्ट के दौरान शानदार 118 रनों की पारी खेली थी। 185 गेंदों में खेली गई पारी के दौरान लाला ने 21 चौके जड़े थे। इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए इस टेस्ट मैच की पहली पारी में वे 38 रन बनाकर पगबाधा आउट हुए थे।

ब्रैडमैन को इस तरह किया था आउट

11 सितंबर 1911 को पंजाब के कपूरथला में जन्मे लाला अमरनाथ ने क्रिकेट की दुनिया में तमाम ऊंचाइयों को छुआ। वे आजाद भारत के पहले कप्तान बने थे और 1952 में भारत ने पाकिस्तान को टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराया था।

लाला अमरनाथ ने भारतीय टीम के लिए दो दर्जन टेस्ट मैच खेले और वे भारत के एकमात्र ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट के सबसे महान खिलाड़ी सर डॉन ब्रैडमैन को हिट विकेट आउट किया था। बतौर कप्तान लाला अमरनाथ ने सबसे पहले पाकिस्तान को ही मात दी थी।

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन

लाला अमरनाथ के साथ एक हैरानी वाली बात यह भी जुड़ी हुई है कि उन्होंने अपने पूरे टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ एक शतक जड़ा और वह शतक भी उनके पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में बना था। लाला अमरनाथ ने 24 टेस्ट मैच की 40 पारियों में 24.38 की औसत से कुल 878 रन बनाए। हालांकि फर्स्ट क्लास क्रिकेट में लाला अमरनाथ के नाम 10 हजार से ज्यादा रन और 463 विकेट दर्ज हैं।

ये भी पढ़ें:संत बाबा राम सिंह का शुक्रवार को होगा अंतिम संस्कार, किसानों के समर्थन में कर ली थी आत्महत्या

आक्रामक गेंदबाजी भी करते थे लाला अमरनाथ

बल्लेबाजी के साथ ही लाला अमरनाथ को आक्रामक गेंदबाजी के लिए भी जाना जाता था। एकदम सटीक लाइन लेंथ पर गेंदबाजी करने वाले लाला अमरनाथ के नाम टेस्ट क्रिकेट में 45 विकेट दर्ज हैं। लाला अमरनाथ ऐसे विलक्षण खिलाड़ी थे जिन्होंने पहले अखंड भारत के लिए क्रिकेट खेला और फिर आजाद भारत के लिए क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया।

रिपोर्ट- अंशुमान तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story