संन्यास की घोषणा करते हुए युवराज सिंह ने कहा सचिन तेंदुलकर की इस बात से हमेशा हो जाता था शर्मिंदा 

2007 का विश्वकप जिताने वाला, 2011 का विश्वकप जिताने वाला, वो छः छक्के मारने वाला युवराज सिंह, उसने आज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का एलान कर दिया है। जिसके बाद पूरे देश में उनके फैन्स काफी दुखी हैं।

मुंबई: 2007 का विश्वकप जिताने वाला, 2011 का विश्वकप जिताने वाला, वो छः छक्के मारने वाला युवराज सिंह, उसने आज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का एलान कर दिया है। जिसके बाद पूरे देश में उनके फैन्स काफी दुखी हैं।

यह भी पढ़ें,,,, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में चौथे नंबर का माहिर बल्लेबाज था युवराज सिंह

युवराज सिंह ने इंटरनेशल क्रिकेट को कहा अलविदा:

भारतीय क्रिकेट में युवराज सिंह का नाम स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जा चुका है जो कई बार टीम के लिए संकटमोचक साबित हुए। सिक्सर किंग के नाम से पहचाने जाने वाले युवराज सिंह ने अपने पूरे करियर के दौरान बहुत गहरी छाप छोड़ी।

युवराज सिंह  ने मुंबई में एक होटल में बकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट लिया। युवी भारतीय टीम में खेलने के दौरान मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से बहुत ही करीबी से जुड़े रहे।

यह भी पढ़ें,,,, कौन-कौन था मौजूद युवराज सिंह की प्रेस कांफ्रेंस के दौरान?

30 की उम्र के बाद फिटनेस को लेकर होती है अतिरिक्त जरूरत:

युवराज सिंह ने हमेशा ही महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को एक पिता की तरह सम्मान दिया और उनके करियर में सचिन का एक बड़ा योगदान रहा है।

युवराज सिंह ने सचिन को लेकर कहा कि “ये मुश्किल होता है जब आप अपने जीवन में इस तरह के दौर से गुजरते हैं और फिर जहां आप हैं वहां आने की कोशिश करते हैं। 30 साल की उम्र में खिलाड़ी को अपनी फिटनेस को फिर से हासिल करने के लिए एक अतिरिक्त बिट की जरूरत होती है।”

यह भी पढ़ें,,,, युवराज सिंह बोले- क्रिकेट को अलविदा कहने का सही समय

 सचिन हमेशा मुझे कहते थे सुपरस्टार, नहीं लगता था अच्छा:

युवी ने आगे सचिन तेंदुलकर  का गुणगान करते हुए कहा कि “वो मुझे हमेशा एक सुपर स्टार कहते हैं, जो उनके सामने मेरे लिए थोड़ा शर्मनाक है ,लेकिन मैं हमेशा उनकी इच्छाओं को लेता हूं। जब कभी भी मैं अपना इंटरनेशनल करियर फिर से शुरु करता हूं तो सचिन तेंदुलकर की शुभकामनाओं के लिए उनका बहुत-बहुत धन्यवाद।”