Top

World cup 2019: जान राइट मेरा पसंदीदा कोच, एक सच्चा दोस्त -सौरव गांगुली

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने जान राइट को अपना पसंदीदा कोच करार दिया जिनका भारतीय टीम के साथ अपने कार्यकाल के दौरान उनके साथ दोस्ताना रवैया रहा। 

PTI

PTIBy PTI

Published on 14 Jun 2019 8:33 AM GMT

World cup 2019: जान राइट मेरा पसंदीदा कोच, एक सच्चा दोस्त -सौरव गांगुली
X
दिल का दौरा पड़ने पर 1 से डेढ़ घंटे का समय बेहद महत्वपूर्ण होता है और यदि इस समय सीमा के भीतर एंजियोप्लास्टी हो जाए तो मरीज की जान बचाई जा सकती है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नाटिंघम: पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने जान राइट को अपना पसंदीदा कोच करार दिया जिनका भारतीय टीम के साथ अपने कार्यकाल के दौरान उनके साथ दोस्ताना रवैया रहा।

गांगुली ने राइट के बारे में कहा, ‘‘मेरे पहले विदेशी कोच और मेरे पसंदीदा कोच। मैं पहली बार उनसे केंट में मिला जब राहुल (द्रविड़) ने मुझे उनसे मिलवाया और कहा कि ये हमारे कोच हैं। मैंने कहा, ‘मैं इनके साथ काम करना पसंद करूंगा।’ हमारे बहुत अच्छे रिश्ते रहे। असल में हम सच्चे दोस्त हैं। ’’

यह भी पढ़ें......ICC WC: ऑस्ट्रेलिया के लिए ‘खलनायक’ बन सकते हैं टीम इंडिया के ये 5 खिलाड़ी

राइट के कोच रहते हुए भारतीय टीम गांगुली की अगुवाई में 2003 विश्व कप के फाइनल में पहुंची थी। राइट और गांगुली दोनों ही अब कमेंट्री टीम का हिस्सा हैं।

गांगुली ने क्रिकेट विश्व कप के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर जारी वीडियो में कहा, ‘‘हमारे लिये विश्व कप बहुत अच्छा रहा और इसके लिये वह (राइट) जिम्मेदार थे क्योंकि हमारे पास मानसिक तौर पर मजबूत खिलाड़ी थे। साथ में रहने से हम बहुत अच्छे दोस्त बन गये। वह कोच से अधिक एक दोस्त थे। वह मुझे समझते थे और मैं उन्हें समझता था। ’’

यह भी पढ़ें......icc world cup 2019: भारत, इंग्लैंड विश्व कप में दो शीर्ष टीमें: मिसबाह

राइट ने भी इस वीडियो में भारतीय टीम के साथ बिताये दिनों को याद करते हुए कहा, ‘‘मेरा मानना है कि भारत में काम करने का मौका मिलना बहुत बड़ा सम्मान था। मुझे कभी इसकी उम्मीद नहीं थी। हम दोनों के लिये शुरुआत कड़ी रही। तुम नये कप्तान थे और मैं विदेशी कोच था। आप अच्छे दिनों को याद करते हो लेकिन इस बीच मुश्किल दौर भी आया।’’

(भाषा)

PTI

PTI

Next Story