jhoola

सावन का महीना पवन करे शोर',कभी ये गाना सावन आते ही लोगों की जुबान पर खुद-ब-खुद आ जाता था। आज वक्त ने ऐसी करवट ली है कि सावन तो आता है पर अपने रंग नहीं बिखेर पाता। जिस सावन के आते ही नववधु के पैर ससुराल से मायके की दहलीज तक पहुंचते थे।

जयपुर: ‘सावन का महीना पवन करे शोर’,कभी ये गाना सावन आते ही लोगों की जुबान पर खुद-ब-खुद आ जाता था। आज वक्त ने ऐसी करवट ली है कि सावन तो आता है पर अपने रंग नहीं बिखेर पाता। जिस सावन के आते ही नववधु के पैर ससुराल से मायके की दहलीज तक पहुंचते थे। मां …

जयपुर: ‘सावन का महीना पवन करे शोर’,कभी ये गाना सावन आते ही लोगों की जुबान पर खुद-ब-खुद आ जाता था। आज वक्त ने ऐसी करवट ली है कि सावन तो आता है पर अपने रंग नहीं बिखेर पाता। जिस सावन के आते ही नववधु के पैर ससुराल से मायके की दहलीज तक पहुंचते थे। मां …

लखनऊ: ‘सावन का महीना पवन करे शोर’,कभी ये गाना सावन आते ही लोगों की जुबान पर खुद-ब-खुद आ जाता था। आज वक्त ने ऐसी करवट ली है कि सावन तो आता है पर अपने रंग नहीं बिखेर पाता। जिस सावन के आते ही नववधु के पैर ससुराल से मायके की दहलीज तक पहुंचते थे। मां …

लखनऊ: ‘सावन का महीना पवन करे शोर’,कभी ये गाना सावन आते ही लोगों की जुबान पर खुद-ब-खुद आ जाता था। आज वक्त ने ऐसी करवट ली है कि सावन तो आता है पर अपने रंग नहीं बिखेर पाता। जिस सावन के आते ही नववधु के पैर ससुराल से मायके की दहलीज तक पहुंचते थे। मां …