navratri

ऐसा ही एक मंदिर है राजधानी के चौक में, जो की 2000 वर्ष पुराना है और इसकी स्थापना आदि शंकराचार्य ने की थी इस मंदिर में भगवान विष्णु और काली जी की मूर्ति को एक साथ रखा जाता है और इसको जाना जाता है- बड़ी काली जी मंदिर के नाम से।

जयपुर: चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रत्येक तिथि का धर्मशास्त्रों में  विशेष महत्व है। इसकी प्रतिपदा से चैत नवरात्रि शुरू होती है। इस दौरान  नवरात्रि के साथ रामनवमी होने से महत्व दोगुना हो जाता है। कहा गया है कि त्रेता युग में इसी दिन मर्यादा पुरुषोत्म राम का जन्म हुआ था। रघुकुल शिरोमणि महाराज दशरथ और …

जयपुर:नवरात्रि एक लोकप्रिय पर्व है। ये पूरे देश में अनेक रूपों में मनाया जाता है। नौ दिनों तक देवी के अनके रुपों की पूजा की जाती है।  (दुर्गा, काली या वैष्णोदेवी) के भक्त नवरात्रि की अष्टमी या नवमी को छोटी कन्याओं(लड़कियों) की पूजा करते हैं। कन्या पूजन में देवी के नौ रूपों की पूजा होती …

यहाँ पर नवरात्रि के दिनों में माता के दर्शन के लिए हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ इक्कट्ठा होती है, ये श्रद्धालु माता के दर्शन के लिए ना जाने कितनी कितनी दूर से आते हैं और दर्शन करके खुद को धन्य समझते हैं। यहाँ पर नवरात्रि में आये हुए हर एक इंसान की एक ही ख्वाइश होती है, कि उसे माता के दर्शन अच्छी तरह से हो जाये और वह अपनी विनती माता के सामने रख दे।

जयपुर: नवरात्रि में चौथे दिन देवी के रूप कूष्मांडा  की पूजा की जाती है। ब्रह्मांड को जन्म देने के कारण इस देवी को कूष्मांडा कहा जाता है। जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था, तब इसी देवी ने अपने हास्य से ब्रह्मांड की रचना की थी। इसीलिए इसे सृष्टि की आदि स्वरूपा या …

जयपुर: देवी के भक्तों नवरात्रि में हम आपको अपने पिछले लेखों में देवी के प्रादुर्भाव दुर्गा सप्तशती के तीन अध्यायों के गुप्त रहस्यों की जानकारी दे चुके हैं। बता चुके हैं कि कौन से अध्याय को करने से आप अपनी किस समस्या का छुटकारा पा सकते हैं? इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि नवरात्रि …

जयपुर: नवरात्रि पर मां की पूजा-उपासना बहुत ही विधि-विधान से की जाती है। इसके पीछे का तात्विक अवधारणाओं का परिज्ञान धार्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक विकास के लिए आवश्यक है।इस बार कलश स्‍थापना का शुभ मुहूर्त  सुबह 6 बजकर 19 मिनट से 10 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। वैसे कलश स्‍थापना का दूसरा शुभ मुहूर्त भी …

देश में नवरात्र के पर्व का काफी महात्म्य माना जाता है। देश के लगभग हर हिस्से में इस दौरान लोग पूरी तरह भक्ति भाव में डूब जाते हैं। कई लोग तो इस दौरान नौ दिन का व्रत भी करते हैं और मां की आराधना में लीन रहते हैं। मां के नौ रूपों की उपासना का …

जयपुर:नवरात्रि का पर्व पूरे नौ दिन मा दुर्गा की  भक्ति का दिन हैं। सभी भक्तगण मातारानी की भक्ति में लीन होते हैं और पूजा-अर्चना के साथ उपवास भी रखते हैं। नवरात्रि के इन नौ दिनों में सभी चाहते है कि मातारानी की सेवा करके उनको प्रसन्न किया जाए, ताकि उनकी कृपा पाकर जीवन के कष्टों …

जयपुर: नवरात्रि के त्योहार को मातारानी के विभिन्न रूपों के पूजन के लिए जाना जाता हैं। पहले दिन से ही इस त्योहार की रौनक सभी ओर देखने को मिल जाती हैं। इसी के साथ लोग विभिन्न रंग-बिरंगे परिधानों में नजर आते हैं जो अपनी ख़ूबसूरती की वजह से मन को मोहते हैं। क्या आप जानते …