Union minister Smriti Irani

स्मृति ईरानी ने सभी ग्रामीणों की समस्याओं को सुना और जल्द ही निस्तारण करने आश्वासन भी दिया। इस दौरान उनके साथ प्रदेश के प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी भी मौजूद रहे। रेलवे स्टेशन पर वाई-फाई की सुविधा का शुभारंभ केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अमेठी रेलवे स्टेशन पर वाईफाई सुविधा का शुभारंभ किया।

सुबह साढ़े दस बजे वह सड़क मार्ग से  सीधे अमेठी के ताला स्थित सगरा तालाब पहुंचेंगी। यहां वह तालाब के जीर्णोद्धार कार्य का शुभारंभ करेंगी।

योजना का शुभारंभ करने के बाद उन्होंने कहा ‘‘लेखपालों को डिजिटल बनाना उप्र सरकार का मकसद है। सरकार चाहती है कि जनता की समस्या का शीघ्र समाधान हो इसके लिए अमेठी के लेखपालों को डिजिटल प्रशिक्षण दिया जायेगा ।’’

आपको बता दें कि कन्हौना गांव में ये स्थित आज नई नहीं है, बल्कि देश को आजाद हुए 70 साल हो गए और इतने ही साल यहां की समस्या को हो गए। अब सड़क निर्माण के झूठे वादों से परेशान ग्रामीणों का कहना है कि इस बार लोकसभा के चुनाव का बहिष्कार करेंगे और मतदान करने नहीं जाएंगे।

वाराणसी: यूं तो बनारस की संस्कृति और उसके अंदाज की तो पूरी दुनिया दीवानी है, लेकिन रविवार को इसमें एक और नाम जुड़ गया। ये नाम है केंद्रीय टेक्सटाइल मंत्री स्मृति ईरानी का। वाराणसी में कार्पेट एक्सपो के उद्घाटन करने पहुंचीं स्मृति ईरानी बनारस की सड़कों पर घूमते समय बेहद साधारण अंदाज में नजर आईं। …

अमेठी: वैसे अमेठी में बीजेपी ख़ासकर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी राहुल और कांग्रेस को घेरे खड़ी हैं। आये दिन अमेठी के सियासी मंच से बीजेपी के दिग्गज अमेठी सांसद एवं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को निशाने पर रखते हैं। बावजूद इसके विधान परिषद के सभापति डॉ रमेश यादव ने अमेठी के दिग्गज कांग्रेसी नेता एवं …

अमेठी: कांग्रेस और गांधी परिवार के गढ़ अमेठी के कौहार में पहली बार भगवा रंग में शराबोर बीजेपी का लंबा चौड़ा मंच सजेगा। कहने को ये मंच अमेठी में मोदी सरकार के विकास की योजनाओं के बयार बहाने के लिए सज रहा है, पर इस तीर से दूसरा निशाना साधने की तैयारी है। लोगों के …

केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी एक बार फिर सुर्खियों में हैं। दरअसल स्मृति ईरानी की एक फोटो इन दिनों सोशल मीडिया में वायरल हो रही है। जिसमें वह एक मोची से अपनी टूटी हुई चप्पल ठीक करवा रही हैं। चप्पल ठीक करवाने के बाद ईरानी ने मोची को 100 रुपए दिए, जबकि मोची ने इसके लिए सिर्फ 10 रुपए ही मांगे थे। सोशल मीडिया में स्मृति इरानी की प्रशंसा भी हो रही है।