Top

OMG: इस चमत्कारिक पहाड़ी का रहस्य, जानकर हो जाएंगे हैरान

ऑस्ट्रेलिया की इस रंग बदलने वाली पहाड़ी को यूनेस्को ने विश्व की धरोहर माना है।जो आयर्स रॉक नाम से भी दुनिया में मशहूर है।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkSumanPublished By Suman

Published on 11 May 2021 6:41 AM GMT

पहाड़ी
X

पहाड़ी की तस्वीर ( साभार-सोशल मीडिया) 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

डॉर्विन:गिरगिट को रंग बदलते देखा और सुना दोनों होगा। इंसान को स्वभाव से बदलते देखा होगा, लेकिन क्या कभी किसी निर्जीव को रंग बदलते देखा है, नहीं तो आपको एक ऐसी पहाड़ी के बारे में बताने जा रहे है जो कोई पहाड़ी ( Hill) भी रंग भी बदलती (Colour Of Change) है। ऐसा सोचना थोड़ा कठिन है लेकिन यह सच (Truth) है। आस्ट्रेलिया में एक ऐसी पहाड़ी जो सुबह-शाम अपना रंग बदल लेती है। इस पहाड़ी को लेकर एक रहस्य है जो वैज्ञानिकों ( Scientist )के लिए चुनौती भी है।

ऑस्ट्रेलिया (Australia) की इस रंग बदलने वाली पहाड़ी को यूनेस्को ने विश्व की धरोहरों (World Heritage) में शामिल किया है। इस पहाड़ी का नाम उलुरू पहाड़ी (Uluru Rock) है। यह पहाड़ी आयर्स रॉक नाम से भी मशहूर है। ये पहाड़ी आस्ट्रेलिया के उत्तरी इलाके में है, जिसे आयर्स राक (Ayers Rock) भी कहा जाता है। यह पहाड़ी प्रतिदिन सुबह से लेकर शाम तक रंग बदलती रहती है। आश्चर्य तो यह है कि पहाड़ी का हर मौसम में रंग बदलता है।

पहाड़ी की तस्वीर ( साभार- सोशल मीडिया)

ये पहाड़ी हर रोज सुबह से लेकर शाम तक रंग बदलती है। यही नहीं, ये पहाड़ी हर मौसम में रंग बदलता है। आखिर कैसे इस पहाड़ी का रंग बदलता रहता है, इसे जानने की उत्सुकता हर किसी में रहती है। इसीलिए ये पहाड़ी दुनियाभर के लोगों के बीच एक आश्चर्य की तरह है।

बता दें कि इसके पत्थर की संरचना विशेष तरह की है। जो सूर्य से आने वाली किरणों के दिनभर बदलते कोण और मौसम में बदलाव पर इसके रंग बदलते रहते हैं। ये पहाड़ी बलुआ पत्थर यानि सैंडस्टोन से बनी है, जिसे कांग्लोमेरेट भी कहते हैं।

पहाड़ी की तस्वीर ( साभार- सोशल मीडिया)

ये अंडाकार पहाड़ी 335 मीटर ऊंची है और इसकी गोलाई 07 किलोमीटर है जबकि चौड़ाई 2.4 किलोमीटर है । सामान्य तौर पर इस चट्टान का रंग लाल रहता है। इसके रंगों में चमत्कारी बदलाव सुबह सूरज के निकलने के समय और शाम को सूर्यास्त के समय होता है। जब सुबह-सुबह सूरज की किरणें इस पर पड़ती हैं तो ऐसा लगता है कि मानो पहाड़ी पर आग लगी हुई है और इसमें से बैंगनी और गहरे लाल रंग की लपटें निकल रही हों।

Suman

Suman

Next Story