Munroe Island Kerala: जन्नत का दूसरा नाम है केरल में स्थित मुनरो आइलैंड, एक बार जरूर जाएँ

Munroe Island Kerala: मुनरो द्वीप में एक समृद्ध ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत है। यह द्वीप अपने बैकवाटर पर्यटन के लिए प्रसिद्ध है। पर्यटक पारंपरिक केरल हाउसबोट क्रूज़ या डोंगी की सवारी करके शांत बैकवाटर का पता लगा सकते हैं।

Preeti Mishra
Written By Preeti Mishra
Updated on: 15 Sep 2023 4:30 AM GMT
Munroe Island Kerala
X

Munroe Island Kerala (Image credit: social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Munroe Island Kerala: मुनरो द्वीप, जिसे मुनरोएथुरुथु के नाम से भी जाना जाता है, दक्षिण भारतीय राज्य केरल में स्थित एक सुरम्य द्वीप है। यह अष्टमुडी झील में स्थित है, जो कोल्लम जिले का हिस्सा है। मुनरो द्वीप अष्टमुडी झील में आठ छोटे द्वीपों का एक समूह है। यह द्वीप बैकवाटर, नदियों और नहरों के नेटवर्क से बना है। यह अपने शांत और हरे-भरे वातावरण के लिए जाना जाता है, जो इसे प्रकृति प्रेमियों के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य बनाता है।

ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत

इस द्वीप का नाम त्रावणकोर की पूर्व रियासत के ब्रिटिश निवासी कर्नल जॉन मुनरो के नाम पर रखा गया है, जिन्होंने 19वीं शताब्दी के दौरान इस क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। मुनरो द्वीप में एक समृद्ध ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत है। यह द्वीप अपने बैकवाटर पर्यटन के लिए प्रसिद्ध है। पर्यटक पारंपरिक केरल हाउसबोट क्रूज़ या डोंगी की सवारी करके शांत बैकवाटर का पता लगा सकते हैं। नहरों और जलमार्गों का नेटवर्क किनारों पर रहने वाले लोगों की अनूठी जीवनशैली को देखने का अवसर प्रदान करता है।

यह द्वीप अपनी जैव विविधता के लिए जाना जाता है, और यह पक्षियों और समुद्री जीवन की विभिन्न प्रजातियों के लिए आवास के रूप में कार्य करता है। यह पक्षी देखने वालों के लिए स्वर्ग है और पक्षी देखने और फोटोग्राफी के अवसर प्रदान करता है।


महत्वपूर्ण व्यवसाय

कॉयर उत्पादन मुनरो द्वीप पर एक महत्वपूर्ण व्यवसाय है। आप पारंपरिक कॉयर बनाने की प्रक्रिया देख सकते हैं, जिसमें नारियल की भूसी से फाइबर निकालना और उन्हें मैट, रस्सियों और अन्य जैसे विभिन्न उत्पादों में बुनना शामिल है। मुनरो द्वीप की यात्रा से केरल के देहाती और प्रामाणिक ग्रामीण जीवन की झलक मिलती है। आप मित्रवत स्थानीय लोगों के साथ बातचीत कर सकते हैं, उनके रीति-रिवाजों के बारे में जान सकते हैं और उनके पारंपरिक व्यंजनों का अनुभव कर सकते हैं।

नौकायन और कैनोइंग के अलावा, आप द्वीप के चारों ओर मछली पकड़ने, कायाकिंग और साइकिल चलाने जैसी गतिविधियों में भी शामिल हो सकते हैं। शांत वातावरण ध्यान और योग के लिए भी आदर्श है। मुनरो द्वीप होमस्टे, रिसॉर्ट्स और गेस्टहाउस सहित कई आवास विकल्प प्रदान करता है। पारंपरिक केरल शैली के हाउसबोट में रहना एक अनोखा अनुभव है।


कैसे पहुंचे

मुनरो द्वीप सड़क और जलमार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम प्रमुख शहर कोल्लम (क्विलोन) है, जो लगभग 25 किलोमीटर दूर है। तिरुवनंतपुरम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है, जो मुनरो द्वीप से लगभग 80 किलोमीटर दूर स्थित है।

कुल मिलाकर, मुनरो द्वीप केरल का एक छिपा हुआ रत्न है, जो पर्यटकों की भीड़-भाड़ से दूर, राज्य के बैकवाटर में एक शांतिपूर्ण और गहन अनुभव प्रदान करता है। यह प्रकृति प्रेमियों और शांत विश्राम चाहने वालों के लिए एक उत्कृष्ट स्थान है।

Preeti Mishra

Preeti Mishra

Next Story