×

Parashurameshwar Temple: महादेव के हैं भक्त तो जरूर जाएं परशुरामेश्वर मंदिर, जानिए इसकी खास बातें

परशुरामेश्वर मंदिर (Parashurameshwar Temple) बेहद खास है। इस मंदिर की दीवारों में 6 सशस्त्र देवी दुर्गा की नक्काशीदार छवि बनी हुई हैं। शिव को समर्पित इस मंदिर की मूर्तियां श्रद्धालुओं को काफी आकर्षित करती हैं। सबसे खास बात यह है की ये मंदिर काफी प्राचीन भी है।

Network

NetworkNewstrack NetworkAshikiPublished By Ashiki

Published on 14 Sep 2021 9:28 AM GMT

Parashurameshwar Temple: महादेव के हैं भक्त तो जरूर जाएं परशुरामेश्वर मंदिर, जानिए इसकी खास बातें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Parsurameswara Temple: दुनिया में कई ऐसी जगहें हैं जो अपनी धार्मिक और प्राकृतिक खूबसूरती के लिए जानी जाती हैं। उन्हीं में से एक है भारत का ओडिशा (Odisha) राज्य। ओडिशा में पर्यटक स्थल होने के साथ-साथ कई धार्मिक स्थल भी हैं, जो न केवल देश से बल्कि दुनिया भर से बहुत सारे पर्यटकों को आकर्षित करता है। वहीं को भुवनेश्वर (Bhubaneswar) को "मंदिरों का शहर" भी कहा जाता है।

भुवनेश्वर में कई धार्मिक स्थल हैं, जो भक्तों और पर्यटकों को काफी पसंद आते हैं, लेकिन अगर आप शिव भक्त हैं तो परशुरामेश्वर मंदिर (Parsurameswara Temple) ज़रूर जाएं। यह मंदिर बेहद खास भी है। इस मंदिर की दीवारों में 6 सशस्त्र देवी दुर्गा की नक्काशीदार छवि बनी हुई हैं। शिव को समर्पित इस मंदिर की मूर्तियां श्रद्धालुओं को काफी आकर्षित करती हैं। सबसे खास बात यह है की ये मंदिर काफी प्राचीन भी है। आइए जानते हैं इस मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातें-

परशुरामेश्वर मंदिर के बारे में

ओडिशा के भुवनेश्वर में स्थित परशुरामेश्वर मंदिर काफी प्राचीन है। इस मंदिर का निर्माण 7 वीं और 8 वीं शताब्दी ईस्वी के बीच किया गया था। इसका निर्माण शैलोद्भव राजवंश के काल में हुआ था। मंदिर की बाहरी दीवार पर देवी पार्वती, गणेश, भगवान शिव आदि की मूर्तियां सुशोभित हैं, जो उस युग की महिमा को दर्शाती हैं। मान्यता है कि शैलोद्भव भगवान शिव की पूजा करते थे और शक्तिवाद में भी उनकी समान आस्था थी। परशुरामेश्वर उन कलिंग मंदिरों में से एक है जहां गर्भगृह और जगमोहन दोनों हैं। इस धार्मिक स्थल में परशुराष्टमी मनाया जाता है, जो यहां का मुख्य त्योहार है।


परशुरामेश्वर मंदिर आने का सही समय

परशुरामेश्वर मंदिर त्योहार के वक्त यानी जून और जुलाई में लोग ज्यादातर आना पसंद करते हैं। अगर आपको शहर केअन्य जगहों को घूमना है तो अक्टूबर से लेकर मार्च के बीच तक समय बेस्ट है। दरअसल, अप्रैल से लेकर सितंबर तक भुवनेश्वर में काफी ह्यूमिडिटी और गर्मी होती है, जिसकी वजह से लोग अच्छी तरह घूम नहीं पाते, लेकिन अगर आप सिर्फ परशुरामेश्वर मंदिर दर्शन के लिए आना चाहते हैं तो जून और जुलाई का महीना बेस्ट है। जुलाई में सावन भी आ जाता है, ऐसे में यहां अलग रौनक देखने को मिलती है।

कैसे पहुंचे परशुरामेश्वर मंदिर

अगर आप फ्लाइट से ट्रैवलिंग जाना चाहते हैं तो आपको दिल्ली, हैदराबाद, मुंबई, कोलकाता से डायरेक्ट भुवनेश्वर की फ्लाइट मिल जाएगी। इसके अलावा ट्रेन के कई ऑप्शन है। दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, और हैदराबाद जैसे कई शहरों से आपको भुवनेश्वर के लिए ट्रेन आसानी से मिल जाएगी। इसके अलावा आप भुवनेश्वर कैब और पर्सनल गाड़ी से भी आ सकते हैं। भुवनेश्वर उतरने के बाद आपको परशुरामेश्वर मंदिर पहुंचने के लिए कई साधन मिल जाएंगे।

Ashiki

Ashiki

Next Story