Top

'नेशनल पोल्यूशन कंट्रोल डे' का क्या है भोपाल गैस त्रासदी से संबंध, जानें सब कुछ

आज नेशनल पोल्यूशन कंट्रोल डे (राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस) है। हर साल आज ही के दिन 2 दिसंबर को दुनियाभर में 'राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस' मनाया जाता है। इस दिन को उन लोगों की याद और सम्मान में मनाया जाता है जिन्होंने भोपाल गैस त्रासदी में अपनी जान गंवा दी थी।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 2 Dec 2018 7:51 AM GMT

नेशनल पोल्यूशन कंट्रोल डे का क्या है भोपाल गैस त्रासदी से संबंध, जानें सब कुछ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: आज नेशनल पोल्यूशन कंट्रोल डे (राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस) है। हर साल आज ही के दिन 2 दिसंबर को दुनियाभर में 'राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस' मनाया जाता है।

इसे मनाने का उद्देश्य है औद्योगिक आपदा के प्रबंधन और नियंत्रण के लिए जागरूकता फैलाना, साथ ही हवा, पानी और मिट्टी को प्रदूषित होने से बचाना और उनमें होने वाले प्रदूषण की रोकथाम के लिए अलग-अलग तरह से समाज में जागरूकता फैलाना।

2 दिसंबर को पूरे दिन 'राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस' के रूप में समर्पित है। इस दिन को उन लोगों की याद और सम्मान में मनाया जाता है जिन्होंने भोपाल गैस त्रासदी में अपनी जान गंवा दी थी।

ये भी पढ़ें...आखिर कब सीखेंगे, NTPC हादसे ने हरे कर दिए कई हादसों के जख्म

भोपाल गैस त्रासदी से जुड़ी कुछ जरूरी बातें जो आपको मालूम होना चाहिए -

1. भोपाल गैस त्रासदी वर्ष 1984 में 2 और 3 दिसंबर की रात को हुई थी।

2. भोपाल में स्थित यूनियन कार्बाइड के रासायनिक संयंत्र से 'मिथाइल आइसोसाइनेट' नाम का जहरीला रसायन व साथ ही अन्य रसायनों का रिसाव हुआ था, जिस कारण से लाखों लोगों की जानें गई थी।

3. एक रिपोर्ट के अनुसार 5 लाख से अधिक लोगों की इस जहरीली गैस के रिसाव के कारण तुरंत मृत्यु हो गयी थी।

4. कई लोगों ने गैस त्रासदी से संबंधित बीमारियों के कारण कुछ दिनों व महीनों बाद अपनी जाने गंवा दी।

5. भोपाल गैस त्रासदी पूरे विश्व के इतिहास की सबसे बड़ी औद्योगिक प्रदूषण आपदा के रुप में जाना गया।

ये भी पढ़ें...भोपाल गैस त्रासदी: हजारों लोगों की गई थी जान, आज भी कई बच्चे हैं विकलांग

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story