Top

NTPC UPDATE: हादसे में अब तक 36 कर्मचारियों की मौत, 38 का इलाज जारी

By

Published on 7 Nov 2017 6:25 AM GMT

NTPC UPDATE: हादसे में अब तक 36 कर्मचारियों की मौत, 38 का इलाज जारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: 1 नवंबर को यूपी के ऊंचाहार हादसे ने पूरे देशभर को झकझोर कर रख दिया है। जिन लोगों ने भी अस्पतालों में झुलसे पीड़ितों को देखा है, वे उस भयानक मंजर को भूल नहीं पा रहे हैं। पीड़ितों के इलाज के लिए सरकार से लेकर एनटीपीसी पूरी तरह तैयार है।

यह भी पढ़ें: रायबरेली NTPC में फटा बॉयलर, 30 की मौत, 200 से ज्यादा घायल

एनटीपीसी ने आधिकारिक तौर पर हादसे में मरने तथा भर्ती मरीजों के बारे में पुष्टि किया है। अब तक 36 कर्मचारियों की सांसें थम चुकी हैं। वहीं, 38 मरीजों का उपचार विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। डॉक्टरों की सलाह पर 26 मरीजों को एयरलिफ्ट करके दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें: NTPC ब्लास्ट के पीड़ितों से मिलने सिविल पहुंचे CM योगी

मरीजों का ब्यौरा जिनका उपचार है जारी

-दिल्ली में 21 मरीज भर्ती हैं।

-लखनऊ में 17 मरीजों का इलाज चल रहा है।

-रायबरेली और लखनऊ से इलाज के बाद अस्पताल से कुल 6 मरीजों को छुट्टी मिल चुकी है।

दिल्ली के इन अस्पतालों में भर्ती हैं मरीज

एम्स, अपोलो, आरएमएल और सफदरगंज अस्पताल में कुल मिलाकर 21 मरीजों का उपचार चल रहा है।

यह भी पढ़ें: रायबरेली: CM योगी के आदेश के बाद NTPC में घायल सभी लोगों को लखनऊ शिफ्ट कराया

राजधानी में यहां हैं मरीज

लखनऊ में सिप्स, एसजीपीजीआई और सिविल अस्पतालों में 17 मरीजों का इलाज चल रहा है।

23 हजार एनटीपीसी कर्मचारियों ने मदद के लिए हाथ बढ़ाया

पीड़ित परिवारों को आर्थिक रूप से सहायता देने के लिए लगभग 23,000 एनटीपीसी के कर्मचारियों ने एक दिन का वेतन देने का फैसला किया है। जो कि लगभग 6 करोड़ रुपए होता है। यह राशि अन्य घोषित क्षतिपूर्ति के अतिरिक्त है।

सभी अस्पतालों में सहायता केंद्र

दिल्ली में स्कोप में कंट्रोल रूम एवं एम्स, अपोलो,आरएमएल और सफदरगंज अस्पताल में सहायता केंद्र स्थापित किया गया है। इसी प्रकार लखनऊ में सिप्स, एसजीपीजीआई और सिविल अस्पताल में भी सहायता केंद्र स्थापित किए गए हैं। केंद्र और राज्य सरकारों के स्तर से भी बचाव और राहत कार्यों में काफी सहयोग मिल रहा है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर

हर केंद्रों पर अधिकारी हैं मौजूद

दिल्ली तथा लखनऊ में भर्ती प्रत्येक रोगी की किसी भी आवश्यकता के लिए लिए एक-एक एनटीपीसी अधिकारी सहायता केंद्रों पर मौजूद हैं। इसके अलावा परिजनों की मदद के लिए एनटीपीसी के और भी अधिकारियों को ऊंचाहार, लखनऊ और दिल्ली में सहायता के लिए आकस्मिक रूप से बुलाया गया है।

ये मुआवजा मिल रहा है पीड़ित परिवार को

ऊर्जा राज्य मंत्री (प्रभारी) आरके सिंह ने ऊंचाहार दौरे के दौरान 20 लाख रुपए मृतक के आश्रितों, 10 लाख गंभीर रूप से घायलों तथा रुपए 2 लाख की वित्तीय सहायता सभी घायल श्रमिकों को देने की घोषणा की है।

कंपनी के आला अधिकारी कर रहे हैं जांच

विशेषज्ञ समिति वरिष्ठतम कार्यकारी निदेशक एसके रॉय तथा दो महाप्रबंधक मिलकर घटना के जांच की रिपोर्ट 30 दिन के अंदर देंगे। कंपनी के शीर्ष अधिकारियों की गठित एक विशेषज्ञ समिति ब्वायलर के इकोनोमाइजर सेक्शन के फाल्ट की जांच कर रही है। जिसके परिणामस्वरूप फ्लू गैसों का निष्कासन हुआ। एनटीपीसी तथा उपकरण निर्माता भेल के विभिन्न विशेषज्ञ समितियां भी इस घटना के कारणों की जांच कर रहे हैं।

ऊंचाहार प्लांट की क्षमता 1550 मेगावाट

एनटीपीसी ऊंचाहार परियोजना की कुल उत्पादन क्षमता 1550 मेगावाट है, जिसमें 210 मेगावाट की 5 यूनिटें तथा 500 मेगावाट की एक यूनिट शामिल है। 210 मेगावाट की सभी यूनिटें वर्तमान में प्रचालन में हैं, जबकि 5वीं यूनिट नियोजित-ओवरहालिंग में है। 500 मेगावाट की यूनिट को जल्दी ही एनटीपी चालू करने का प्रयास करेगी।

Next Story