3D प्रिंटिंग से बनेंगी हड्डियां, नहीं रहना होगा बोन डोनर्स पर डिपेंड

अमेरिका: चोट लगने पर जब हड्डी टूट जाती है, तो इंसान काफी बुरी तरह से परेशान हो जाता है। पर अब उसे परेशान होने की जरूरत नहीं है। आजकल 3डी प्रिंटिंग को लेकर कई तरह के रिसर्च चल रहे हैं। लेकिन सबसे ख़ास बात तो यह है कि इससे अब मानव अंग बनाने के प्रयास भी किए जा रहे हैं। हाल ही में अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी में भी इस पर एक रिसर्च किया गया है। इसमें एक ऐसे मेटेरियल पर रिसर्च चल रहा है, जिसकी मदद से 3डी प्रिंटिंग के जरिए नयी हड्डियां बनायी जा सकें।

यूज किया जा रहा ह्यूमन बोन पाउडर
-इससे पहले 3डी प्रिंटिंग के जरिए जो भी हड्डियां बनाई गई हैं, वे पूरी तरह से आर्टिफिशियल थी।
-मगर अब जो हड्डियां तैयार की जा रही हैं, उनके मेटेरियल में 30% मानव हड्डियां मिली हुई हैं।
-इसमें बायोडीग्रेडेबल पॉलिएस्टर का इस्तेमाल हुआ है।

-आर्टिफिशियल चीजों के यूज से हमारी बॉडी प्लास्टिक की चीजों से तालमेल नहीं बैठा पाती है।
-लेकिन अगर इसमें बोन पाउडर का यूज होता है, तो यह बॉडी की सेल्‍स को अट्रैक्‍ट करता है और उसके आसपास नेचुरल टिश्यू बन जाते हैं।

नहीं रहना होगा बोन डोनर्स पर डिपेंड
-इस मेटेरियल का यूज करके इसे किसी भी हड्डी का शेप दिया जा सकता है।
-कहा जा रहा है कि इसके बाद डॉक्टर्स को दूसरों द्वारा दान की हुई हड्डियों पर डिपेंड नही रहना होगा।
-इस रिसर्च के अनुसार चूहे की खोपड़ी में छोटा-सा छेद कर दिया गया था।
-बाद में उस छेद को 3डी प्रिंटेड मेटेरियल से भर दिया गया।

-इसके साथ में ही स्टेम सेल का भी यूज किया गया।
-फिर उस चूहे के ठीक होने की प्रॉसेस पर नजर रखी गई।
-इससे पता चला कि पूरी तरह से आर्टिफिशियल चीजों से बनी हड्डियों की तुलना में इन नई हड्डियों के आस-पास नए टिश्यू की ग्रोथ अधिक हुई थी।