Top

7 साल की बच्ची ने गूगल में JOB के लिए किया अप्लाई, तो CEO सुंदर पिचाई ने दिया ये रिप्लाई

अबतक आपने कई किस्से सुने होंगे जिसमे मासूम बच्चे अपने पीएम या सीएम से विनती पत्र लिखते हैं। मगर जो किस्सा हम आपको बताने जा रहे हैं वो जरा हटके है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 16 Feb 2017 10:42 AM GMT

7 साल की बच्ची ने गूगल में JOB के लिए किया अप्लाई, तो CEO सुंदर पिचाई ने दिया ये रिप्लाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ब्रिटेन: अबतक आपने कई किस्से सुने होंगे जिसमे मासूम बच्चे अपने पीएम या सीएम से विनती पत्र लिखते हैं। मगर जो किस्सा हम आपको बताने जा रहे हैं वो जरा हटके है। हेयरफोर्ड में रहने वाली 7 साल की क्लोई ब्रिजवाटर गूगल में नौकरी करना चाहती हैं। इसके लिए उन्होंने गूगल के CEO सुंदर पिचाई को एक लेटर भी लिखा। ये लेटर सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है।

CEO सुंदर पिचाई ने दिया जवाब

-इस लेटर की सबसे ख़ास बात ये है कि गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने क्लोई के लेटर का जवाब दिया है।

-क्लोई ने दुनिया के सबसे बड़े इंटरनेट सर्च इंजन गूगल में नौकरी पाने के लिए अपनी हैंडराइटिंग में लेटर लिखा था। जिसका जवाब सुंदर पिचाई ने दिया।

आगे की स्लाइड में जानें क्या लिखा था लेटर में...

लेटर में क्या लिखती है क्लोई

- लेटर में उन्होंने बताया है कि उन्हें कम्प्यूटर चलाना आता है। वे ऐसी जगह पर काम करना चाहती हैं जहां बैठने के लिए बीन बैग्स होते हैं।

- जहां ऑफिस में एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए गो-कार्ट होते हैं।

- क्लोई ने अपनी इच्छा ज़ाहिर करते हुए यह भी लिखा है कि वे चॉकलेट फैक्टरी में भी काम करना चाहती है और ओलिंपिक गेम्स में स्विमिंग करना चाहती हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़ें CEO सुंदर पिचाई का जवाब ...



ये था CEO सुंदर पिचाई का जवाब

- क्लोई के इस लेटर का गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने रिप्लाई भी किया।

- सुंदर पिचाई ने लिखा कि अच्छी बात है कि तुम्हें कम्प्यूटर पर काम करना आता है। उम्मीद है आप टेक्नोलॉजी के बारे में पढ़ती रहेंगी और ऐसे ही मेहनत करती रहेंगी तो गूगल में काम कर पाओगी।

पिचाई के लेटर से मिली क्लोई को हिम्मत

- क्लोई के पिता ने लिंक्डइन पर लेटर को शेयर किया। उन्होंने लिखा "कुछ साल पहले कार से टकराने के बाद से क्लोई काफी डरी हुई रहती थी।''

- पिचाई के लेटर का क्लोई पर काफी अच्छा असर पड़ा है।

-अब क्लोई स्कूल में अच्छा करना चाहती है, ताकि गूगल में काम कर पाए।

-उन्होंने अपनी ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा कि मैं सोच भी नहीं सकता कि इतने बिजी रहने वाले पिचाई एक बच्ची के सपनों के लिए वक्त निकालेंगे।"

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story