Top

नगर वधुओं ने पूरी रात सजाई महफिल,जलती चिताओं के बीच किया डांस

Admin

AdminBy Admin

Published on 13 April 2016 5:38 AM GMT

नगर वधुओं ने पूरी रात सजाई महफिल,जलती चिताओं के बीच किया डांस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसीः प्राचीन नगरी काशी का अंदाज और मिजाज दुनिया से निराला है। यहां मौत पर भी उत्सव मनाया जाता है। बुधवार को श्मशान घाट पर नगर वधुएं जलती चिताओं के बीच गीत-संगीत के रंग में सराबोर हो पूरी रात डांस करती रहीं। ये रात हर साल चैत्र नवरात्र के आठवें दिन के बाद आती है। जिस श्मशान घाट का नाम सुनकर लोग सिहर जाते हैं उसी श्मशान घाट पर नगर वधुओं ने पूरी रात महफिल सजाई।

चिता पर लेटने वाले को सीधे मिलता है मोक्ष

16वीं शताब्दी से काशी के महाश्मशान मणिकर्णिका घाट पर शुरू ये परंपरा लगातार चली आ रही है। जलती चिताओं के बीच नगर वधुएं मुक्ति के लिए संगीत की आराधना करती हैं। महोत्‍सव की आखिरी रात में जलती चिताओं के सामने नटराज को साक्षी मानकर नगर वधुएं पूरी रात साधना करती हैं। मान्यता है कि यहां चिता पर लेटने वाले को सीधे मोक्ष मिलता है।

nagar-vadhu-in-kashi

मंदिर की स्थापना पर शुरू हुई थी परंपरा

कार्यक्रम व्यवस्थापक गुलशन कपूर ने बताया कि यह परंपरा अकबर काल में राजा मान सिंह ने शुरू की थी। 16वीं शताब्दी में जब राजा मान सिंह ने श्मशान नाथ मंदिर का निर्माण करवाया, तो उस समय भी यह परंपरा थी। मंदिर निर्माण के बाद वहां भजन कीर्तन का आयोजन किया जाता था। महाश्मशान होने की वजह से कोई भी कलाकर यहां आने को तैयार नहीं हुआ। इसके बाद मान सिंह ने नगरवधुओं को निमंत्रण भेजा। वे इसे स्वीकार करके पूरी रात बाबा के दरबार में नृत्य करती रहीं। काशी के जिस मणिकर्णिका घाट पर मौत के बाद मोक्ष की तलाश में मुर्दों को लाया जाता है।

नहीं बुझती श्मशान की आग

यह श्मशान दुनिया का इकलौता श्मशान है, जहां चिता की आग कभी ठंडी नहीं होती। जहां लाशों का आना और चिता का जलना कभी नहीं थमता। धर्म नगरी काशी में मणिकर्णिका घाट इसलिए मशहूर है कि यहां दाह संस्कार होने पर सीधे मोक्ष मिलता है। चैत्र नवरात्रि अष्टमी को इस घाट पर मस्ती में सराबोर एक चौंका देने वाली महफिल सजती है।

chita

नगर वधुएं थिरकती हैं पूरी रात

साल में एक बार यह अनोखी रात आती है। चैत्र नवरात्र के आठवें दिन की रात जब श्मशान पर एक साथ चिताएं भी जलती हैं और घुंघरुओं और तेज संगीत के बीच कदम भी थिरकते हैं। इनके लिए जीते जी मोक्ष पाने की मोहलत बस यही एक रात देती है। इस दिन श्मशान के बगल में मौजूद शिव मंदिर में शहर की तमाम नगरवधुएं इकट्ठा होती हैं और फिर भगवान के सामने जी भरके नाचती हैं। यहां आने वाली तमाम नगर वधुएं अपने आपको बेहद खुशनसीब मानती हैं। चिताओं के करीब नाच रहीं लड़कियां शहर की बदनाम गलियों की नगर वधु होती हैं। पर इन्हें ना तो यहां जबरन लाया जाता है ना ही इन्हें इन्हें पैसों के दम पर बुलाया जाता है।

baba-bholenath

मना कर दिया था तब के कलाकारों ने

जानकारों की माने तो इसके पीछे एक बेहद पुरानी परंपरा है। व्यवस्‍थापक गुलशन कपूर ने बताया कि श्मशान के सन्नाटे के बीच नगरवधुओं के डांस की परंपरा सैकड़ों साल पुरानी है। मान्यताओं के मुताबिक आज से सैकड़ों साल पहले राजा मान सिंह द्वारा बनाए गए बाबा मशान नाथ के दरबार में कार्यक्रम पेश करने के लिए उस समय के जाने-माने नर्तकियों और कलाकारों को बुलाया गया था, लेकिन ये मंदिर श्मशान घाट के बीचों बीच मौजूद था, लिहाजा तब के चोटी के तमाम कलाकारों ने यहां आकर अपने कला का जौहर दिखाने से इंकार कर दिया था।

crowed

नगर वधुओं ने किया था न्‍योता स्‍वीकार

राजा ने डांस के इस कार्यक्रम का ऐलान पूरे शहर में करवा दिया था, लिहाजा वो अपनी बात से पीछे नहीं हट सकते थे। लेकिन बात यहीं रुकी पड़ी थी कि श्मशान के बीच डांस करने आखिर आए तो आए कौन? इसी सोंच में वक्त तेजी से गुजर रहा था। लेकिन किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था। जब किसी को कोई उपाय नहीं सूझा, तो फैसला ये लिया गया कि शहर की बदनाम गलियों में रहने वाली नगर वधुओं को इस मंदिर में डांस करने के लिए बुलाया जाए। उपाय काम कर गया और नगरवधुओं ने यहां आकर इस महाश्मशान के बीच डांस करने का न्योता स्वीकार कर लिया। ये परंपरा बस तभी से चली आ रही है।

Admin

Admin

Next Story