Top

योग के नाम एक और रिकार्ड, 112 फुट के आदियोगी गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 15 May 2017 11:01 AM GMT

योग के नाम एक और रिकार्ड, 112 फुट के आदियोगी गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गत 24 फरवरी को उद्घाटन किए गए आदियोगी शिव की प्रतिमा को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया है। यह दुनिया की सबसे बड़ी आवक्ष प्रतिमा बन गई है। इसकी अभिकल्पना सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने की है।

ये भी देखें : जज्बे को सलाम ! जरूरतमंद माँओं की मदद के लिए सामने आए रैना

गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने अपनी वेबसाइट पर कहा है, "यह प्रतिमा 34.24 मीटर (112 फुट 4.0 इंच) ऊंची, 24.99 मीटर (81 फुट 11.8 इंच) चौड़ी और 44.90 मीटर (147 फुट 3.7 इंच) लंबी है। इसकी पुष्टि 11 मार्च, 2017 को की गई।"

एक बयान के मुताबिक, यह आवक्ष प्रतिमा योग के स्रोत की ओर इंगित करती है और आदियोगी (योगा के जनक) द्वारा आत्म-परिवर्तन के 112 तरीकों को दर्शाती है।

गुरु जग्गी वासुदेव के नेतृत्व वाले इशा फाउंडेशन द्वारा तमिलनाडु में स्थापित 'आदियोगी' की इस आवक्ष प्रतिमा को देखने के लिए रोजाना सैकड़ों लोग पहुंचते हैं।

ईशा फाउंडेशन देश में इतनी ही उंची तीन और प्रतिमाएं स्थापित करना चाहता है। आदियोगी का भव्य चेहरा स्टील का बना है, जिसे डिजाइन करने में लगभग ढाई साल लगे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story