Top

बीमारी से तंग आकर स्टूडेंट ने लगाई फांसी, लाश देख उड़ गए घरवालों के होश

शामली के मौहल्ला नई बस्ती निवासी नसीम की बेटी शबाना बी.ए. प्रथम वर्ष की छात्रा थी जो पिछले कई महीने से बीमार चल रही थी, जिसके कारण वह कई बार अपना मानसिक संतुलन खो देती थी।उसका इलाज दिल्ली के एक प्राइवेट अस्पताल में चल रहा था। रविवार को शबाना के पिता किसी काम के लिए घर से बाहर गए थे और भाई बैंक से पैसे बदलने के लिए गया हुआ था।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 14 Nov 2016 6:46 AM GMT

बीमारी से तंग आकर स्टूडेंट ने लगाई फांसी, लाश देख उड़ गए घरवालों के होश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

mrityu

शामली : कांधला थाना कस्बे में बीमारी से तंग आकर बी.ए. फर्स्ट ईयर की छात्रा ने फांसी के फंदे पर लटक कर खुदकुशी कर ली।घटना के बाद परिवार में कोहराम मचा हुआ है।मामले का पता चलते ही पुलिस मौके पर पूछताछ करने पहुंची लेकिन परिजनों ने किसी भी कार्रवाई से इनकार कर दिया।

क्या है पूरा मामला ?

शामली के मौहल्ला नई बस्ती निवासी नसीम की बेटी शबाना बी.ए. प्रथम वर्ष की छात्रा थी जो पिछले कई महीने से बीमार चल रही थी, जिसके कारण वह कई बार अपना मानसिक संतुलन खो देती थी।उसका इलाज दिल्ली के एक प्राइवेट अस्पताल में चल रहा था। रविवार को शबाना के पिता किसी काम के लिए घर से बाहर गए थे और भाई बैंक से पैसे बदलने के लिए गया हुआ था। दोपहर बाद जब घर पर कोई नहीं था, तो उसने कमरे का अंदर से दरवाजा बंद किया और फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिवार के लोग घर लौटे तो कमरे का नजारा देखकर उनकी चीख निकल पड़ी।

मामले की सूचना पर एस.ओ मौके पर पहुंचे और परिजनों से पूछताछ की, लेकिन परिवार के लोगों ने किसी भी तरह की कार्रवाई से इनकार कर दिया।थानाध्यक्ष अनुराधा सिंघल ने बताया कि पुलिस सुचना पर मौके पर गई थी परिजनो ने कानूनी कार्यवाही से इंकार कर दिया। अगर कोई तहरीर आती है तो जाँच कर कार्यवाही की जाएगी।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story