Top

इस गांव में महिलाओं को नहीं भाता पुरुषों का साथ, करती हैं आपस में शादी

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 3 Aug 2016 12:46 PM GMT

इस गांव में महिलाओं को नहीं भाता पुरुषों का साथ, करती हैं आपस में शादी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: शादी का नाम सुनते ही जनाब मन में लड्डू फूटने लगते है। हजारों ख्वाब आंखों के सामने आने लगते है और मिलन की आस संजोए दूल्हा-दुल्हन की बेकरारी बढ़ जाती है। ये तो हम दुनिया के हर कोने में होनी वाली शादी की बात कर रहे है।जहां शादी करने का ढ़ंग भले अलग हो पर फीलिंग एक सी होती है।

marrige

अब जिस शादी की बात करने जा रहे है वो किसी लड़के-लड़की की शादी नहीं और ना ही होमोसेक्सुअल शादी है। जिसमें लड़के-लड़के और लड़कियां-लड़कियों में शादी होती है। पर आज हम जिस शादी की बात कर रहे हैं । उसमें एक महिला दूसरी महिला से शादी करती है और ये सिर्फ शादी नहीं, बल्कि यहां की पंरपरा भी है।

ये सबकुछ देखने को मिलता है तंजानिया के एक गांव में। इस गांव में रहने वाली सब महिलाएं है जो ट्राइब्स है। ये लेस्बियन नहीं होती है। फिर एक महिला दूसरे बकायदा रीति-रिवाजों के साथ कानूनी तौर पर शादी कर लेती है। आइए जानते हैं कि यहां ऐसी शादी क्यों होती है?

maira

यहां महिलाएं ऐसा इसलिए करती हैं?

क्योंकि उनका वर्चस्व बना रहे और वे ताउम्र अपने घर की मालकिन बनी रहीं। ये महिलाएं नहीं चाहती हैं कि किसी पुरुष का उन पर अधिकार हो। कोई बाहर का उनके घर और संपति पर हक ना जमाएं । इसलिए वे पुरुषवादी समाज के विरोध करती हैं।

shadidi

पति-पत्नी की भूमिका में महिलाएं

जब इस जनजाति की दो महिलाएं आपस में शादी करती है तो एक पति की भूमिका में तो दूसरी पत्नी की भूमिका में होती है।इसमें एक घर संभालती है तो दूसरी बाहर काम पर जाती है।इन महिलाओं का कहना है कि अगर कोई पुरुष जबरदस्ती शोषण करने की कोशिश करता है तो उसे वे खुद सजा भी देती है।

ladys-mairried

नहीं है पुरुष

दरअसल यहां की महिलाएं खुद को आत्मनिर्भर बनाने और संपत्ति का पूरा हक अपने पास रखने के लिए एक-दूसरे से विवाह कर लेती हैं। पहले ये मात्र एक कार्य हुआ करता था लेकिन वर्तमान में इस कार्य ने परंपरा का रूप ले लिया है। इस परंपरा की वजह से इस गांव में पुरुषों की संख्या ना के बराबर है।

Newstrack

Newstrack

Next Story