Top

'लिट्ल बॉय' ने आज ही 80 हजार लोगों की ली थी बली, जानिए 15 अनसुनी बातें

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Aug 2018 10:29 AM GMT

लिट्ल बॉय ने आज ही 80 हजार लोगों की ली थी बली, जानिए 15 अनसुनी बातें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : 6 अगस्त, 1945 को जापान में सुबह के सवा आठ बज रहे थे। हिरोशिमा शहर अभी ठीक से जागा भी नहीं था। लेकिन अगले कुछ ही मिनटों में 80,000 लोग बेमौत मारे जाते हैं और 35,000 गंभीर तौर पर घायल होते हैं। आज भी हजारों उस तबाही के निशान लिए जिए जा रहे हैं। अमेरिकी बॉम्बर प्लेन एनोला गे ने हिरोशिमा पर दुनिया का सबसे पहला एटॉमिक बम 'लिट्ल बॉय' गिराया था। आइये इस हमले से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें जानते हैं...

ये भी देखें :जानिए ‘मॉब लिंचिंग’ का इतिहास, 23 बातें जो सिहरन पैदा कर देंगी

ये भी देखें : देश में कॉन्डम के 80 साल, नोट कर लीजिए ’10 मारक बातें’, बहुत ज्ञान मिलेगा

  1. अमेरिकी वायुसेना ने हिरोशिमा पर आकाश से छोटे पम्फलेट बरसा हिरोशिमा की जनता को बमबारी के लिए आगाह किया था।
  2. हिरोशिमा में पीड़ितों की याद में शांति की ज्वाला 1964 में जलाई गई।
  3. ये तबतक जलती रहेगी, जब दुनिया से सारे न्यूक्लियर वैपंस समाप्त नहीं हो जाते।
  4. हिरोशिमा पर हमले के बाद एक पुलिसकर्मी नागासाकी पहुंचा था। उसने वहां के पुलिसकर्मियों को हमले के दौरान बचने के तरीके बताए। उस समय हिरोशिमा के बाद नागासाकी ऐसा बड़ा शहर था जहां हमला हो सकता था इस लिए वहां के पुलिसकर्मियों को बचाव के लिए जागरूक किया गया और कुछ ही दिनों में जब नागासाकी पर हमला हुआ तो एक भी पुलिसकर्मी की मौत नहीं हुई।
  5. सुतोमू यामागुची हमले के समय हिरोशिमा में थे इसके बाद वो नागासाकी चले गए। सुतोमू इकलौते व्यक्ति थे जिन्होंने दोनों हमलों में किसी तरह अपनी जान बचा ली थी।
  6. इस हमले के बाद हिरोशिमा में पहली बार जिस चीज में जीवन नजर आया वो एक ओलियंडर पुष्प था आज इसे हिरोशिमा के सरकारी पुष्प के तौर पर जाना जाता है।
  7. बॉम्बर प्लेन एनोला गे हिरोशिमा और नागासाकी पर बम गिराए थे। इसमें 12 सैनिक सवार थे।
  8. 1945 में जापान के रेडार ऑपरेटर्स ने कुछ प्लेन देखे लेकिन उसने उन्हें रोका नहीं और अंजाम आज सबके सामने है।
  9. इस हमले में गिनको बिलोबा प्रजाति का पेड़ बच गया ये आज भी जिन्दा है
  10. गिनको बिलोबा 27 करोड़ साल पुरानी पेड़ों की एक प्रजाति है।
  11. गॉडजिला फिल्म हिरोशिमा और नागासाकी पर हुए न्यूक्लियर हमले के प्रतिरोध में बनाई गई थी।
  12. अमेरिका के युद्ध मंत्री रहे हेनरी एल.स्टिमसन ने क्योटो में हनीमून मनाया था। जब उनके सामने टारगेट सिटी का नाम आया तो उन्होंने क्योटो का नाम इस हटा दिया। लेकिन इसके बाद जब विवाद बढ़ा तो उन्होंने क्योटो पर हमला न करने की जिद ठान ली और लिस्ट में नागासाकी का नाम शामिल हो गया।
  13. हिरोशिमा पर परमाणु अटैक से पहले 49 प्रैक्टिस बम गिराए गए थे। इनका नाम पम्पकिन बन था।
  14. हिरोशिमा पर कोड नेम 'लिट्ल बॉय' बम गिराया गया था। जबकि नागासाकी पर कोड नेम 'फैट मैन' बम गिराया गया था।
  15. 3 घंटे तक जापान सरकार समझ ही नहीं सकी की हुआ क्या है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story