Top

यहां दो भाई मिलकर बनाते है एंटीक कार, जिसकी विदेशों तक है धूम

By

Published on 14 May 2016 8:36 AM GMT

यहां दो भाई मिलकर बनाते है एंटीक कार, जिसकी विदेशों तक है धूम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुरः राज विहार कॉलोनी के कंवरदीप और उनके भाई पुष्पेंद्र एंटीक कारें बनाते हैं। यह देश ही नहीं विदेशों में भी पसंद किए जा रहे हैं। इन भाईयों द्वारा कारों के एक से बढ़कर एक मॉडल तैयार किए गए हैं।

car, antique car

ये भी पढ़ें...VIDEO: कबाड़ से बनाई ट्रेन, बिना फ्यूल वाला जेनरेटर करेंगे PM को गिफ्ट

इनके हुनर को विदेश में भी मिली सराहना

सहारनपुर के राज विहार कालोनी के रहने वाले कंवरदीप सिंह और उनके भाई पुष्पेंद्र सिंह हैं। उन्होंने कहा कि इस बार 1914 मेक की मोरगन कार का मॉडल तैयार कर रहे हैं। अंबाला रोड पर दोनों भाई वर्कशॉप चलाते हैं। इनके इस हुनर को देश ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी सराहना हासिल हो चुकी है। विभिन्न क्षेत्रों में सक्रिय अनेक प्रमुख हस्तियां भी उनके हुनर की प्रशंसक हैं।

car-with-kunwerdeep

इन्हें बाइकिंग का हैं शौक

पॉप सिंगर दलेर मेहंदी से लेकर होटल व्यवसाय, राजनीति और अन्य कार्य क्षेत्रों से जुड़े तमाम मशहूर लोग शामिल हैं। दोनों भाईयों को बाइकिंग का भी शौक है। वे चंडीगढ़ और दिल्ली समेत कई स्थानों के बाइकर्स समूहों के साथ निरंतर जुड़े हुए हैं।

ये भी पढ़ें... हाथ में चुभी पेंसिल की नोंक तो आया IDEA, बनाई महान हस्तियों की आकृति

car

तीन साल पहले बनाया अमेरिकन बाइक का मॉडल

करीब तीन साल पहले उन्होंने एक अमेरिकन बाइक का मॉडल तैयार किया था जो करीब 105 साल पहले बनी थी। मात्र 25 हजार रूपए की लागत से बनी इस बाइक का वास्तविक नाम इंडियन है, जो गुजरे दौर में एक प्रमुख अमेरिकी कंपनी का ब्रांड था। तब दुनियाभर में फैले एंटीक वस्तुओं के शौकीनों ने इसे हाथों हाथ लिया था। एक अमेरिकन वेबसाइट ने तो उनके हुनर में गहरी दिलचस्पी दिखाते हुए दोनों भाईयों से इसकी जानकारी भी ली थी।

antique-car

ये भी पढ़ें... इस DEVICE से मिलेगी घायलों को मदद, परिजनों को GPS से भेजेगी सूचना

क्या कहते हैं सहयोगी जितेंद्र काला?

-वे तीनों रचनात्मकता में विश्वास रखते हैं ।

-इसमें किसी भी प्रकार का समझौता करना उनकी आदतों में नहीं है।

-वे इसी सोच के साथ अपने तमाम प्रोजेक्ट लेकर सामने आते रहेंगे।

kunwerdeep-singh

ये भी पढ़ें... बिना टेक्निकल पढ़ाई के बनाया हेलीकॉप्टर, लोग बुलाते हैं छोटा कलाम

क्या कहते हैं कंवरदीप?

-दोनों भाई उद्यमी हैं और गियर पार्ट्स का बिजनेस चलाते हैं।

-यह शौक कब जुनून में तब्दील हो गया, आज याद नहीं।

-उनकी फैक्ट्री अब एक कलात्मक वर्कशॉप में तब्दील हो चुकी है।

-अपनी फैक्ट्री में ही बाइक और कारों समेत अनेक एंटीक आइटम रिस्टोर किए हैं।

Next Story