Top

इस दिव्यांग परिवार की लुटी खुशियां, सरकार से कहा-करो मदद या दे दो मौत

suman

sumanBy suman

Published on 11 April 2017 11:49 AM GMT

इस दिव्यांग परिवार की लुटी खुशियां, सरकार से कहा-करो मदद या दे दो मौत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा: आगरा में एक परिवार के लिए दिव्यांगता अभिशाप बन गई है। पूरा परिवार इससे ग्रसित है। समाज के तानों और आर्थिक तंगी ने इस परिवार को अपंग बना दिया है। परिवार के पास पेट भरने के लिए पैसे नहीं है। पढाई में अच्छी होने के बावजूद इस परिवार की बेटियां पढ़ नहीं पा रही है। ये मामला है आगरा के ताजगंज थाना क्षेत्र के शमसाबाद रोड के पास कहरई मोहल्ले के एक घर में रहने वाले दोनों पैरों से दिव्यांग रवनीर सिंह और उनकी दिव्यांग तीनों बेटियों की। जिनके आंखों से आंसूओं का सैलाब रुकने का नाम नहीं ले रहा है।

आगे...

कुछ समय पहले तक रनवीर सिंह का परिवार काफी खुशहाल था। रवनीर सिंह ने गांव के प्रधान पर आरोप लगाते हुए कहा कि 6 बीघे खेती को थोड़ा सा पैसा लेने के बाद वापस लेने के लिए बैंक से 27 लाख रुपये का लोन लेना पड़ा। लोन का काफी पैसा बैंक मैनेजर के साथ-साथ बिचौलिए खा गए। इसके बाद उनकी खेती भी चली गई और लोन वापस करने के लिए पैसे भी नहीं जुट पाए। बैंक वाले लोन नहीं दे पाने पर घर पर आकर सबका अपमान करते हैं।

आगे...

नेताओं से लेकर अधिकारियों के पास गए, लेकिन किसी ने भी मदद नहीं की। वहीं पिता पर टूटे दुखों के पहाड़ का नतीजा ये हुआ कि चंद साल बीतने के बाद पूरा परिवार आर्थिक तंगी के चलते भुखमरी की कगार पर आ गया। बेटी की पढ़ाई बंद हो गई तो दूसरी बेटी को एयर लाइंस वालों ने फीस नहीं देने के चलते निकाल दिय। दिव्यांग बेटियों ने अपनी पीड़ा बताते हुए कहा कि घर के बाहर निकलने के बाद समाज उनकी दिव्यांगता का मजाक उड़ाने लगा। सिस्टम से हारने के बाद अब तो सिर्फ मौत ही आखिरी रास्ता बचा है। रवनीर सिंह की छोटी बेटी ने हाथ जोड़कर सीएम योगी आदित्यनाथ से स्कूल की फीस के लिए पैसे देने की गुहार लगाई। नहीं तो मौत को गले लगाने की बात कही है।

suman

suman

Next Story