Top

काशी की इन मालाओं के मुरीद हैं जुकरबर्ग, विदेशों में होती हैं EXPORT

Admin

AdminBy Admin

Published on 18 March 2016 7:29 AM GMT

काशी की इन मालाओं के मुरीद हैं जुकरबर्ग, विदेशों में होती हैं EXPORT
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसीःबेटी बचाओं बेटी पढ़ाओ पीएम मोदी के इस नारे ने देश भर में महिलाओं के प्रति सोच में बदलाव किया है और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिए हिम्मत दी है। पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की ड्रेस डिजाइनर शिप्रा सांडिल्य ने ग्रामीण महिलाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने का बीड़ा उठाया है। शिप्रा नरूत्तमपुर गांव की महिलाओं के हाथ से बनी जप मालाओं को विदेशों में एक्सपोर्ट करती हैं। महिलाएं अपनी मेहनत और परिश्रम से इन जप मालाओं को नया और खास रूप देती हैं। देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी इन डिज़ाइनर जप मालाओं की पहचान है। इन जप मालाओं के कायल फेसबुक के मालिक मार्क जुगरबर्ग से लेकर एप्पल कंपनी के फाउंडर स्व. स्टीव जॉब्स भी रहे हैं।

jap-mala

जप मालाओं को लुप्त होने से बचाना है मकसद

बनारस की शिप्रा सांडिल्य जागरूक होने के साथ साथ आत्मनिर्भर भी हैं। वैसे तो पेशे से शिप्रा एक ड्रेस डिज़ाइनर हैं। बीते कुछ दिनों से शिप्रा बनारस की पहचान माने जाने वाले जप मालाओं को बेहतर और आकर्षक रूप देने में लगी हैं ताकि पहचान खोते इन मालाओं को भारतीय कला और संस्कृति के तौर पर विदेशों में इनकी मांग को बढ़ाया जा सके। इनमें कई किस्म की मालाएं हैं, जो बेहद दुर्लभ और बेशकीमती हैं। तुलसी से लेकर काले रुद्राक्ष की माला को और भी आकर्षक रूप देने के पीछे का मकसद इन्हें लुप्त होने से बचाना है।

jap-mala1

ग्रामीण महिलाओं को मिला रोजगार

शिप्रा का मकसद तब और भी नेक हो जाता है जब वे अपने इस मुहीम में गांव की महिलाओं को जोड़ रही हैं। शिप्रा लुप्त होती मालाओं के व्यापार के साथ-साथ महिलाओं को भी सशक्त और आत्मनिर्भर बनाना चाहती हैं। वह अपने इस मुहीम में शहर की पढ़ी-लिखी महिलाओं को भी जोड़ सकती थी मगर इन्होंने ऐसा न करते हुए गांव की तरफ रुख किया ताकि गांव की महिलाओं को समय के साथ ढाल कर उन्हें स्वावलंबी बनाते हुए रोज़गार मुहैया कराया जा सके।

jap-malayein

बनाई वेबसाइट

शिप्रा ने इसी कड़ी में माला इंडिया.com नाम की वेबसाइट बनाई है और इसी के माध्यम से मॉडर्न जप मालाओं को वे देश विदेश तक पहुंचा रही है। इस मुहीम में शिप्रा के कई मददगार भी है जिनमें उनके गुरु विश्वप्रसिद्ध नीम करोली बाबा का नाम सबसे ऊपर है। नीम करोली बाबा के बड़े और प्रसिद्ध चेलों में फेसबुक के फाउंडर मार्क ज़ुकरबर्ग और एप्पल कंपनी के फाउंडर स्व. स्टीव जॉब्स शुमार हैं। इन्होंने इन जप मालाओं में अपनी दिलचस्पी दिखाई थी।

jap

आत्मनिर्भर होती ग्रामीण महिलाएं

शिप्रा की पहल ने गांव की इन महिलाओं को सशक्त तो बनाया ही साथ ही रोज़गार मुहैया करवा कर इन महिलाओं के परिवार में इनके मान और सम्मान को भी बढ़ावा दिलाने में मदद की। आम तौर पर महिलाएं फूलों की खेती करती है और उसके बाद जो वक़्त बचता है उसमें माला गूथंने के काम में लग जाती हैं। इनकी मेहनत और परिश्रम से अब ये भी अपना परिवार चलाने में समर्थ हो गई हैं। गांव की महिलाएं रोज़गार मिलने से और भी मजबूत और सशक्त हो गई हैं। परिवार में बराबरी की भागीदारी कर ये महिलाएं बेहतर भविष्य की ओर बढ़ रही हैं। समाज में महिलाओं को बराबरी का दर्जा दिलाने में जुटी शिप्रा भी महिला सशक्तिकरण की जीती जागती मिसाल हैं।

Admin

Admin

Next Story